जलाल उद्दीन मोहम्मद अकबर - जीवनी - Badshaah Akbar - Biography - In Hindi

जलाल उद्दीन मोहम्मद अकबर का जन्म 15 अक्तूबर 1542 पर हुआ था। और अकबर का जन्म स्थान जिला- उमरकोट सिंध बताया जाता है। (अकबर का जन्म स्थान वर्तमान समय में पाकिस्तान देश का हिस्सा है)। अकबर के पिता का नाम नसीरुद्दीन हुमायूँ था। और उनकी माँ का नाम नवाब हमीदा बानो बेगम साहिबा था। अकबर मुग़लों के वंशज थे। और तिमुर राज-घराने से ताल्लुक रखते थे। 



कबर की पत्नियाँ - सलीमा सुल्तान बेगम साहिबा, रुकाईया बेगम, और मरियम उज-जमनि बेगम साहिबा थीं। अकबर के दादा का नाम जहीरुद्दीन मोहम्मद बाबर था, और वह मुगल साम्राज्य के सूत्रधार / संस्थापक थे। अकबर का राज्य-अभिषेक 14 साल की उम्र में ही हुआ था। उनका राज्य अभिषेक 14 फरवरी, 1556 के दिन हुआ था। अकबर ने अपने शासन काल में तांबे, चाँदी और सोने की मुद्रायेँ प्रचलित की थीं।   


मुग़ल वंश साम्राज्य के बादशाहों द्वारा स्थापित इमारतें

·         मुग़ल वास्तुकला
·         हुमायूँ का मकबरा
·         आगरा का किला
·         बादशाही मस्जिद
·         लौहोर का किला
·         लाल किला
·         ताज महल
·         शालीमार बाग
·         मोती मस्जिद
·         बीवी का मकबरा


जलाल उद्दीन मोहम्मद अकबर और जोधाबाई

जोधाबाइ और अकबर के विवाह के बाद जोधाबाइ कभी अपने माइके नहीं गयी। उन्हे राजपूतना खानदान ने सदा के लिए त्याग दिया था। अकबर के साथ विवाह के बाद जोधाबाइ, मरियम उज-जमनि बेगम साहिबा के नाम से जानी गयी। जोधाबाई और अकबर की कहानी पर वर्ष 2008 में आशुतोष गोवरीकर के द्वारा फिल्म भी बनाई गयी थी। जिसमे मशहूर अभनेता ऋत्विक रोशन ने अकबर का पात्र निभाया था। और जोधाबाई का पात्र ऐश्वर्या राय बच्चन ने निभाया था। पूर्व काल सन 1960 में भी “मुगल-ए-आजम” फिल्म बनी थी जो काफी लोकप्रिय हुई थी। इस फिल्म में पृथ्वी राज कपूर साहब ने अकबर का किरदार निभाया था। अकबर के पुत्र का किरदार दिलीप कुमार और उनकी प्रेयसी का पात्र मधुबाला के द्वारा निभाया गया था। निरंतर समय पर अकबर बीरबल के किस्सों, और अकबर की जीवनी पर अलग अलग फिल्म और सीरियल्स बनते आ रहे हैं। इंटरनेट, बुक्स, फिल्म और अन्य कई माध्यम से अकबर और मुग़ल साम्राज्य से जुड़े साहित्य पर नए नए कार्यकर्म बनते आ रहे हैं।       


जलाल उद्दीन मोहम्मद अकबर बादशाह के नव रत्न

  1. ·         बीरबल। (सन 1528 से सन1583) दरबार के विदूषक, परम बुद्धिशाली, और बादशाह के सलहकार।
  2. ·         फैजि।  (सन 1547 से 1596) फारसी कवि थे। अकबर के बेटे के गणित शिक्षक थे।
  3. ·         अबुल फज़ल।  (सन 1551 से सन 1602) अकबरनामा, और आईन-ए-अकबरी की रचना की थी।   
  4. ·         तानसेन।  (तानसेन उत्तम गायक थे। और कवि भी थे)।
  5. ·         अब्दुल रहीम खान-ए-खान। एक कवि थे, और अकबर के पूर्व काल के संरक्षक बैरम खान के बेटे थे।
  6. ·         फकीर अजिओं-दिन । अकबर के सलाहकार थे।
  7. ·         टोडरमल।  अकबर के वित्तमंत्री थे।
  8. ·         मानसिंह। आमेर / जयपुर राज्य के राजा और अकबर की सेना के सेनापती भी थे।
  9. ·         मुल्लाह दो पिअजा । अकबर के सलहकार थे।       


जलाल उद्दीन मोहम्मद अकबर और मुग़ल साम्राज्य से जुड़ी हकीकते और अफवाए

·         अकबर के मुग़ल साम्राज्य का कुल समय काल सन 1526 से सन 1587 तक का रहा था।
·         मुग़ल साम्राज्य के संस्थापक बादशाह बाबर के उत्तराधिकारी हुमायूँ , उनके बेटे अकबर फिर जहाँगीर, शाहजहाँ, औरंगजेब, और अंत में छोटे मुगल  गद्दीनशीन हुए थे।
·         मुग़ल साम्राज्य के विरोधीयों में इब्राहिम लोधी, शेर शाह सूरी, महारणा प्रताप, हेमू, गोकुला, छत्रपती शिवाजी, और गुरु गोविंद सिंह का समावेश होता है।
·         अकबर के द्वारा हरम (उपस्त्री भवन) बनाए गए थे, जहां हारे हुए राजाओं और हिन्दू सती होने वाली स्त्रीयों को जबरन अगवाह कर के अपने हरम भवन में डालने के आरोप हैं।
·         अपनी कामुकता संतुष्टि के लिए अकबर ने खुदारोज / प्रमोद दिवस प्रथा शुरू की थी, इस दिन प्रजा और कर्मचारीयों की स्त्रियों को नग्न प्रदर्शित करने के लिए बाधित किया जाता था। और इस कु-प्रथा का मुख्य मकसद अपने हरम के लिए स्त्रियाँ चुनने का होता था।         
·         मुग़ल साम्राज्य के प्रचलित युद्ध, पानीपत प्रथम, पानीपत द्वितीय और पानीपत तृतीय थे।   
·         अकबर को  मुस्लिम धर्म के सिवाह अन्य धर्मों में भी रुचि थी। और वह हर धर्म को सम्मान देते थे।
·         अकबर ने कई लोगो को ज़बरदस्ती इस्लाम कुबूल करवाया था।
·         अकबर ने पवित्र हिन्दू यात्रा पर जज़िया लगाया था। फिर हटा लिया और मुस्लिम अग्रणीयों के दबाव में आ कर फिर से जज़िया लागू किया था।
·         अकबर को हिन्दू धर्म में विशेष रुचि थी।  


विशेष

बादशाह अकबर ने अपने जीवन काल में कई अहेम लड़ाइयाँ लड़ी और जीती। इस्लाम धर्म के सिवाय अन्य धर्मों में रुचि रखना अकबर को बाकी मुग़ल बादशाहों से अलग दिखाती हैं। जोधाबाइ से विवाह करना और विवाह के उपरांत गैर इस्लामी धर्म की इबादत करने देना अकबर के खुले विचार और अच्छाई दर्शाता है। एतिहासकारों के मुताबिक अकबर ने अपनी कामुकता संतुष्टि के लिए हरम (वेशिया भवन) के निर्माण कर रखे थे। जिनमे वह कई महिलाओ को जबरन भी बंदी बना रखते थे। यह अकबर की जीवनगाथा का एक कलंकित भाग है।   


जलाल उद्दीन मोहम्मद अकबर का राज्य विस्तार      

  • ·         मालवा सन 1562
  • ·         गुजरात सन 1572
  • ·         बंगाल सन 1574
  • ·         काबुल सन 1581
  • ·         कश्मीर सन 1586
  • ·         खानदेश (महाराष्ट्र का एक भाग) सन 1601  


जलाल उद्दीन मोहम्मद अकबर की मृत्यु 

27 अक्तूबर, 1605 के दिन अकबर की मृत्यु आगरा फतेह पुर सिफरी विस्तार में हुई थी। अकबर की कब्र आगरा में है। उस वक्त आगरा को बिहिस्ताबाद सिकंदरा के नाम से पहचाना जाता था।  
=========================================================================

Thanks - "पोस्ट पसंद आने पर comment जरूर करें । "

जलाल उद्दीन मोहम्मद अकबर - जीवनी - Badshaah Akbar - Biography - In Hindi जलाल उद्दीन मोहम्मद अकबर - जीवनी - Badshaah Akbar - Biography - In Hindi  Reviewed by Paresh Barai on 12:27:00 AM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.