Indian defense Army Navy and Air force - हमारी सेना हमारा गौरव

हमारी दुनियाँ में कुल मिला कर 195 देश है। इनहि में से एक देश, हमारा भारत इक्कीसवी सदी की उभरती हुई महासत्ता है। दुनियाँ में भारत जैसा महान देश ढूँढना मुश्किल होगा। पूरी दुनियाँ में भारत देश की सेना ताकत में तीसरे नंबर पर आती है। हमारा देश विभिन्न जातीयों के लोगो, और अनेक धर्म के मानने वाले लोगो का देश है।

एक्सो तीस करोड़ लोगों के इस देश में जनता का राज यानी लोकशाही है। और हमारे देश की रक्षा के लिए मौजूद तीनों विंग्स- जल, थल, और वायु सेना में कुल मिला कर अंदाजन 13,25,450 सैनिक हैं। जिन में आर्मी / थल सेना में 11,29,900 सिपाही हैं। नेवी / नौ सेना में 58,350 सिपाही हैं। और वायु सेना / एयरफोर्स में 1,27,200 सिपाही हैं। और पेरा मिलेटरी फोर्स अलग से हैं।           

हमारा देश भारत नौजवानों का देश भी कहा जाता है, चूँकि हमारे देश में अन्य देशों के मुक़ाबले युवा धन अधिक है। और हमारे देश के नागरिक भी अधिक साहसी और महेनती है। आज के समय में दुनियाँ भर में भारतीय मूल के लोग फैले हुए हैं, और काफी तरक्की भी कर रहे हैं। एक भारतीय होने के नाते हमे इस बात पर गर्व होना चाहिए। हमारे देश की सेना में कार्यरत सिपाहीयों की काबिलियत अनुसार, तीनों विंग्स में प्राप्त होने वाले पद नीचे दर्शाये गए हैं।  

भारतीय सेना के तीनों विभाग और उसके रेंक


भारतीय नेवी (नौ सेना) विभाग के रेंक - 

एड्मिरल ऑफ द फ्लीट, एड्मिरल, वाइस एड्मिरल, रियर एड्मिरल, कोमोडोर, कप्तान (captain), कमांडर, लेफ्टनिन कमांडर, लेफ्टनिन, सब लेफ्टनिन।


भारतीय आर्मी (थल सेना) विभाग के रेंक –

फील्ड मार्शल, जनरल, लेफ्टनिन जनरल, मेजर जनरल, ब्रिगेड़ीयर, कर्नल, लेफ्टनिन कर्नल, मेजर, कप्तान (caption), लेफ्टनिन। 


भारतीय एयरफोर्स (वायुसेना) विभाग के रेंक –

मार्शल ऑफ द एयरफोर्स, एयर चीफ़ मार्शल, एयर मार्शल, एयर वाइस मार्शल, एयर कोमोडोर, ग्रुप कप्तान caption, विंग कमांडर, स्क्वोर्डन लीडर, फ्लाइट लेफ्टेनेंट, फ्लाइंग ऑफिसर।     

जब कोई देश विकास के पथ पर अग्रसर होता है तो उस देश से जलन रखने वाले, और उसका बुरा चाहने वाले देश भी होते हैं। और मित्र भाव रख कर पड़ोसी देश की तरक्की में खुश होने वाले देश भी होते है। किसी भी परिस्थिति में देश के आम नागरिकों की रक्षा करने के लिए देश का रक्षा विभाग, और भारतीय सेना कार्यरत होतीं है।

हिंदुस्तान को बुरी नज़र से बचाने, और हम आम भारतीय नागरिकों की चहु और से रक्षा करने के लिए, थल सेना, वायुसेना, और नौसेना, तहनात होती है। देश के हर कौने में हर किसम की परिस्थिति का सामना करते हुए, हमारे देश के सिपाही अपनी जान हथेली पर रख कर, हमारी हिफाज़त करते हैं।

आतंकवादी हमलों में बचाव कार्यो में, और अन्य दुर्घटनाओ में हमारे देश के अनगिनत सिपाही शहीद हुए हैं। हमारे देश के सिपाही अपने परिवार से साल के, नौ - दस महीने दूर रह कर सरहदों की हिफाज़त करते हैं। ताकि हम सुरक्षित रह सकें। देश की सेना में भर्ती होना हर किसी के नसीब में नहीं होता है। इस कठिन चुनौती को हर कोई पार नहीं कर पाता है। इस लिए अगर मौका मिले तो देश की सेना में ज़रूर भरती होना चाहिए।

भारतीय सेना में चुने जाने पर सरकार की और से सरकारी खर्चे पर शारीरक तालिम और जरूरी सिक्षा मुहैया कराई जाती हैं। और जब तालिम चल रही होती है तभी से पगार शुरू हो जाती है। सेना में भरती होने की तालिम कठिन तो होती है, पर कठिनाई तो हर क्षेत्र में आती ही है। सेना की नौकरी करते करते अगर पढ़ाई साथ चालू रखी जाए ती तरक्की भी होती रहती है।

अगर इस लेख को कोई 15 से 18 साल का वाचक पढ़ रहा है तो उनके लिए भारतीय सेना में भरती होने की तयारी करने का उत्तम समय है। निरंतर समय पर थल सेना, नौ सेना, और वायु सेना विभाग के द्वारा भरती का आयोजन किया जाता है। जिसके इस्तिहार अखबारों, वैबसाइटस, और टीवी पर आते रहते हैं।

सेना में भरती होने के लिए शरीर निरोगी, और कसा हुआ होना परम आवश्यक है। इस लिए जब भी पता चले की आने वाले समय में सेना भरती होने वाली है, तो पहले से ही व्याम करना और समतोल आहार लेना शुरू कर देना चाहिए। ऐसा करने से चयन होने के आसार काफी बढ़ जाएंगे।

चयन हो जाने के बाद ट्रेनिंग में जाने का समय आ जाए, उस के पहले किसी वारिष्ठ सैननी अधिकारी या केडेट से मुलाक़ात करनी चाहिए। और उनके अनुभव जानने चाइए। ऐसा करने से सेना की तालिम में आसानी होती है। और जो गलतियाँ उन्होने की थी उस से आप बच सकते हैं।

फौज में भरती होने कैरियर तो सुरक्षित हो ही जाता है, पर देश की रक्षा और सेवा करने का गौरव भी प्राप्त होता है। आम लोग काफी इज्ज़त देते हैं और निवृत होने पर सरकार पेंशन और ज़मीन भी देती है। अन्य क्षेत्रों की स्पर्धात्मक परीक्षाओं में भी सैनिक क्वोटा “आरक्षण” अलग से दिया जाता है, ताकि सेना से निवृति के बाद एक माजी सैनिक आसानी से नौकरी पा सके।

सैनिक के ड्यूटि पर घायल हो जाने पर, सरकार सैनिक के परिवार जनों को आर्थिक सहायता भी देती है, और अगर सैनिक वीरगती को प्राप्त हो जाए तो मुआब्जा (compensation) दिया जाता है। और परिवार सदस्योंमें से एक सदस्य को सरकारी नौकरी भी दी जाती है।

हमारे देश के हर एक युवा नागरिक को रक्षा विभाग की तीनों विंग्स थलसेना, नौसेना , और वायु सेना के द्वारा प्रदान की जाने वाली उत्तम तक (opportunity) का लाभ लेना चाहिए। हमे एक भारतीय होने पर तो गर्व होता ही है, पर अगर देश की सेवा करने का मौका मिले तो यह सौभाग्य की बात होती है। सेना की तालिम एक आम आदमी को खास बना देती है, और उस के अंदर अदभूत आत्मविसवाश भर देती है।

भारतीय सेना में नौकरी करने वाले सिपाही के पास अगर खेल कूद या किसी और क्षेत्र से जुड़ा हुनर हों, तो सेना की और से ऐसे प्रवीण और उत्साही सिपाही को अपने पसंदीदा क्षेत्र में आगे बढ्ने के लिए भी प्रोत्साहित किया जाता है।

अगर कोई सिपाही किसी जंग में या किसी बचाव कार्य में विषेश प्रदर्शन करता है, तो सेना और सरकार की और से उसे इनाम और तरक्की भी प्राप्त होते हैं। घर में अगर कोई फौज में भरती हुआ हो, तो उसके पूरे परिवार को समाज इज्ज़त और सम्मान की नजर से देखता है। सेना में नौकरी करने वाले सिपाही को और उनके परिवार को सरकार की और से अन्य भी कई सुविधायेँ प्राप्त होती है।


भारत सरकार द्वारा संचालित सेना अकेडमी की सूची।

·         इंडियन मिलेटरी अकेडमी देहारादून
·         नेशनल डिफेंस अकेडमी खडाकवासला (NDA)।
·         डिफ़ेस सर्विस स्टाफ कॉलेज वेलिंगटन कनोटमेंट।
·         इंडियन नेवल अकेडमी। एज़ीमाला।
·         ओफिसर्स ट्रेनिंग अकादमी चेन्नई।
·         ओफिसर्स ट्रेनिंग अकादमी गया।

विशेष-

भारत देश के हर एक नौ युवान व्यक्ति (स्त्री / पुरुष) से हमारी अपील है, की हमारे देश की सेना में भरती होने और अपना उज्वल भविष्य बनाने की और ज़रूर ध्यान दें। और देश सेवा में अपना योगदान दें। आर्मी, नेवी, और एयरफोर्स विभाग की अलग अलग सरकारी वेबसाइट इंटरनेट पर मौजूद होती हैं। वैबसाइट पर आवेदक के लिए जरूरी इन्फॉर्मेशन, जैसे की...  अभ्यास, उम्र, शारीरिक योग्यता, और अन्य आवश्यक लायकात / योग्यता के बारे में मालूमात हासिल की जा सकती हैं।

सेना भरती की तारीख, अकेडमी के पते, और अन्य कई तरह की इन्फॉर्मेशन भी इन वेबसाइट्स पर मुहैया की जाती हैं। रोजगार न्यूज़ पेपर, टीवी विज्ञापन, गवर्नमेंट वेबसाइटस, और रेडियो पर आने वाली सेना भर्तियों के विज्ञापन प्रकाशित किए जाते हैं।
===========================================================================  
Join The Defiance & Serve The Nation – Best Luck – Jai Hind.
Indian defense Army Navy and Air force - हमारी सेना हमारा गौरव Indian defense  Army  Navy  and Air force - हमारी सेना हमारा गौरव     Reviewed by Paresh Barai on 4:03:00 AM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.