Saturday, August 6, 2016

Short Essay on Independence Day on 15th August – स्वतन्त्रता दिवस


आज़ादी की कीमत वही समझ सकता है जिसनें कभी गुलामी भोगी हो। आज हम जिस खुली हवा में सांस ले रहे हैं, उसके लिए कई भारतीयोंनें अपना खून बहाया है, जानें दी है। ज़ालिम अंग्रेजों का आतंक सहा है। देश की धरती को माँ का दरज्जा देने वाले हर भारतीय की और से,,, आज़ादी की जंग लड़ने वाले सभी क्रांतिकारियों को शत शत नमन। भारत में स्वतन्त्रता दिवस 15 अगस्त को मनाया जाता है। चूँकि 15 अगस्त 1947 के दिन हमारे देश को कपटी अंग्रेज़ो से स्वतन्त्रता मिली थी। यह दिन पूरे हिंदुस्तान के लिए गर्व-गाथा का दिन है।



15 अगस्त के पवित्र दिन पर देश के लिए बलिदान देने वाले भारत माँ के क्रांतिकारी सपूतों को याद किया जाता है। और इस दिन हमारे भारत देश के माननीय प्रधान मंत्री देश की राजधानी दिल्ली में लाल किले पर हमारा राष्ट्र चिन्ह तिरंगा झंडा फेहराते हैं। तिरंगे को सलामी देते हुए उस दिन राष्ट्र गान (National anthem) गाया जाता है। इस पावन दिन पर देश के प्रधान मंत्री देश के नाम संदेश भी देते हैं।


15 अगस्त के दिन पूरा भारत देश, देश-भक्ति के रंग में रंगा नज़र आता है। रेडियो, टीवी और समाचार पत्रों और अन्य कार्यक्रमों में भी देश के शहीदों को याद करते गाने, और प्रोग्राम प्रदर्शित किए जाते हैं। समस्त देश के राज्यों में सांस्कृतिक कार्यक्रम किए जाते हैं। स्कूल कॉलेजो में भी स्वतन्त्रता दिवस पर विशेष कार्यक्रम रखे जाते हैं।


असामाजिक तत्व इस पाक दिवस पर अपना प्रभाव छोड़ने की फिराक में रहते हैं, इस लिए पूरे देश में सुरक्षा के विशेष इंतज़ाम किए जाते हैं। केवल भारत देश में ही नहीं पर विश्व के अन्य देशों में बसे भारतीय मूल के नागरिक भी इस दिवस को हर्ष-और-उल्लास के साथ मनाते हैं। आज़ादी की लड़त के लिए हज़ारो लाखों शहीदों का खून जिस मिट्टी में मिला है,,, उस धरती पर जन्मा होने पर मुझे गर्व है। - “जय हिन्द” – “जय भारत”               

  
loading...

0 comments:

  © Blogger templates The Professional Template by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP