Short Essay On Horse In Hindi - Ghode par Hindi Nibandh


घोडा एक महेनती जानवर होता है। प्राचीन काल से यह आकर्षक जानवर इन्सान की पसंद बना रहा है। अरबी घोड़े ऊंची नस्ल के माने जाने हैं। एक घोडा अपनें जीवन का अधिक समय खड़ा रह कर और दौड़ कर ही बिताता है। इसी कारण वश घोडा चुस्त गठीला और फुर्तीला होता है। घोड़े को चने अधिक पसंद होते हैं। घोड़े का मुख्य आहार घाँस है। घोड़े की गिनती वफादार जानवरों में की जाती है। घोड़े बिना रुके लंबे अंतर तक तेज़ गति से दौड़ सकते हैं। उनकी इसी खासियत के कारण इन्सान को घोड़े प्रिय जानवर हैं।



एक स्थान से दूसरे स्थान तक आने जाने के लिए, खेत जोतने के लिए, सामान लाद कर ले जाने के लिए एवं घौड सवारी के खेल में घोड़ों का उपयोग किया जाता है। प्राचीन समय में राजे महाराजे लड़ाई में भी घोड़ों का इस्त्माल बहुतायत में करते थे। वर्तमान समय में कई जगह पर घोड़ों की रेस का खेल आयोजित किया जाता है।

# शरीर का वज़न कम नहीं हो रहा है तो इस लिंक को खोल कर उपाय ज़रूर पढ़ें

# क्या कम ऊंचाई (Height) आप की शर्मिंदगी का कारण बनी है? तो ये रहा एलाज।    

सर्कस में भी घोड़े आकर्षक करतव दिखाते देखे जा सकते हैं। घोडा एक संवेदनशील जानवर होता है। उसे तालिम देने पर वह कुत्ते की तरह वफादारी निभाता है। घोडा साप से बहुत डरता है। किसी भी कारण तनाव युक्त हो जाने पर घोडा भड़क कर भाग सकता है, या स्वबचाव में हमला भी कर सकता है।


तेज़ गति से दौड़ने के साथ साथ घोडा पानी में तैर भी सकता है। आज भी वर्तमान समय में सेना परेड, धार्मिक महोत्सव और शादी ब्याह के दौरान घोड़ों का उपयोग किया जाता है। आम तौर पर घोड़े के पैर पर नाल लगा दी जाती है ताकि उसके पैरों को (खुर को) अधिक नुकसान ना हो। घोडा विश्व के लगभग हर देश में पाया जाता है। विषम (गर्म) प्रकृति के वातावरण में घोड़े अधिक फल-फूल सकते हैं। पौराणिक कथाओं में भी घोड़ों की वफादारी और बहादुरी के किस्से पढ़ने को मिलते हैं।  
     
Short Essay On Horse In Hindi - Ghode par Hindi Nibandh Short Essay On Horse In Hindi - Ghode par Hindi Nibandh  Reviewed by Paresh Barai on September 18, 2016 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.