Google Adsense में CTR क्या होता है Click Through Rate Increase कैसे करें

ब्लॉगिंग की बात करें तो Internet और marketing क्षेत्र में CTR शब्द का बहुत बड़ा महत्व है। यह बात सब जानते हैं की Google Adsense विश्व के सभी ब्लॉगर के लिए पैसे कमाने का सब से बड़ा और अहम Advertising network है। पोस्ट के title से यह बात साफ़ हो ही गयी है की CTR का पूरा मतलब क्लिक थ्रु रेट (Click through Rate) होता है। यह बात हम सब जानते हैं की जब किसी चीज़ की demand होती है तो उसकी supply बढ़ती है। यहाँ CTR के मामले में भी वही नियम लागू होता है। Advertiser उनही विज्ञापन को ज़्यादा promote करते हैं जिनका CTR अधिक होगा। और वही Advertise ब्लॉगर (पब्लिशर) के website पर display होंगे। product ad का CTR जितना बहेतर होगा उसे उतना ही अधिक exposure दिया जाएगा और उस पर उतने ही अधिक क्लिक मिलेंगे। जिस से ब्लॉगर को ज़्यादा Google Adsense की कमाई होगी।

Google Adsense में CTR का Meaning क्या होता है?

CTR यानी की क्लिक थ्रु रेट का सीधा सा हिसाब है। ब्लॉग पर जीतने Ad Click हुए हैं उन्हे कुल Views से विभाजित कर देना है। (उदाहरण- CTR = Clicks / Impressions)। आसान शब्दों में कहें तो… मान लीजिये की आप के ब्लॉग पर 100 लोगों के द्वारा ads देखे गए हैं तो आप के कुल 100 impression हुए। अब उन 100 views में से आप के ads पर 10 क्लिक हुए हैं तो आप के ब्लॉग की ads का CTR 10% होता है। यह बहुत ही साधारण गणना है।

Google Adsense में अच्छा CTR कितना होता है?

यह सवाल हर एक blogger के दिमाग में आता है की, अच्छा CTR कितना होगा। कितना सी टी आर मिलने पर गूगल एड से अच्छी कमाई हो सकती है। कई बारा अच्छी ख़ासी ad click संख्या होने के बावजूद भी गूगल एड से कमाई नहीं हो पाती है। यहाँ हमें इस बात का ध्यान होना चाहिए की अधिक ज़्यादा click होने पर ज़्यादा कमाई हो जाएगी इस बात की कोई गारंटी नहीं होती है।

कभी कभी कम Click होने पर भी ज़्यादा कमाई मिल जाती है। सच में कहें तो ब्लॉग पर ads किस जगह पर और कितनी दूरी पर लागये गए हैं और content की length कितनी लंबी है यह भी मायने रखता है। CTR बढ़ाना है तो उन जगहों पर Google ads लगाने चाहिए जहां visitor का ध्यान सब से पहले पड़ता हों। या फिर उस जगह लगाएँ जहां visitor रुक का कंटैंट ध्यान से पढ़ता है।

Short में कहें तो post की वह जगह, जहां कुछ valuable point का description दिया गया हों। या फिर जो पोस्ट का रसप्रद (interesting) भाग हों। ads हमेशा ऐसी tricky जगह पर clear location देख कर लगाया जाना चाहिए। जिस से उसका maximum फायदा मिल सके।

अब रही बात अच्छे CTR की तो, Google Adsense द्वारा इसका कोई माप नहीं दिया गया है। लेकिन Generally इस बात का खयाल रखना चाहिए की 15 से 20% से ऊपर CTR को ना जाने दें। इस बात को विस्तार से समझे तो, कुल 100 visitor में से अगर 15 या 20 click मिलते हैं तो वह ठीक है। पर अगर 30 या 35 click मिले तो इसे खतरे की घंटी समझना चाहिए। ऐसा होने पर Google आप के ब्लॉग को spam ब्लॉग करार दे सकता है। गूगल की आम अवधारणा यह होती है की अगर किसी ब्लॉग का ad CTR 30 या 35% चल रहा है तो ज़रूर उसमें Fraud click या software click का अनैतिक सहारा लिया जा रहा है।

CTR प्रमाण से अधिक क्यूँ बढ़ जाता है

  • कंटैंट और एड के बीछ काफी कम जगह होने के कारण visitor ना चाहते हुए एड्स पर क्लिक कर बैठते हैं इस से CTR गलत तरीके से बढ़ जाता है।
  • कई बार दूसरे ब्लॉगर और शरारती लोगों के बार बार एड क्लिक करने पर भी CTR बढ़ सकता है।
  • एक पोस्ट पर तीन या चार से अधिक Google ads लगाने पर भी सी टी आर बढ़ जाता है। कम कंटैंट में ज़्यादा एड लगाने पर भी यह समस्या हो जाती है।

Google Adsense CTR Increase कैसे करें। (CTR बढ़ाना)

एक ब्लॉगर SEO के बारे में अच्छे से समझ कर keyword research कर के बढ़िया articles पोस्ट करेगा तो उसके ब्लॉग पर traffic जरूर आएगा। Google adsense से अच्छी कमाई प्राप्त करने के लिए ज़्यादा traffic नहीं पर quality ट्राफिक की जरूरत होती है। और जो लोग Google ads पर ज़्यादा interested होते हैं वह Google के search Engine से आते हैं। उसी traffic को organic traffic कहा जाता है। और आप के ब्लॉग पर organic traffic तभी बढ़ेगा जब आप के ब्लॉग के post pages search rank में पहले page पर आएंगे। गूगल adsense का CPC बढ़ाने से ads earning बढ़ेगी। अगर ब्लॉग पर ad CPC कम है तो इस लिंक पर क्लिक कर के पोस्ट पढ़ें। 

और सच मानिए की, यह काम इतना भी मुश्किल नहीं है। Google Search में पोस्ट को पहले page पर कैसे लाया जाये इस पर मैंने एक पोस्ट लिखी है जिसका लिंक मै यहाँ दे रहा हूँ।

Google Adsense का CTR बढ़ाना है तो इन tips को follow करें

  1. ब्लॉग पर Text Ads और Picture Ads दोनों का उपयोग करें।
  2. पोस्ट section में दो पोस्ट के मध्य में Google ads लगाएँ।
  3. कम CPC या 0 CPC देने वाले बेकार विज्ञापन के URL ब्लॉक कर दें।
  4. अपनी सूझ बुज अनुसार Google Ads का जगह बदलते रहें।
  5. Organic traffic बढ़ाने पर focus करें। यानि Search Engine से ट्राफिक लाएँ।
  6. बड़ी साइज़ के Google ads यूनिट का उपयोग करें।
  7. Visitor का अधिक से अधिक ध्यान जा सके ऐसी जगह ads लगाएँ।
  8. एक पोस्ट पर 3 से अधिक ads का ईस्त्माल ना करें।
  9. पोस्ट कम से कम 1000 शब्द की है तो ही 3 से 4 ads लगाएँ।
  10. पुरानी पोस्ट को re-edit करें और ad placement बदलते रहें।

CTR

CTR प्रमाण से अधिक बढ्ने पर क्या होगा?

जिस तरह घटा हुआ CTR कम कमाई देता है और सिरदर्द बनता है। उसी तरह अगर CTR हद से अधिक बढ़ जाता है तो भी खतरनाक साबित हो सकता है। Google adsense आप के ब्लॉग को spammer और fraud मान कर Google ad ban कर सकता है। इस लिए CTR को 15 से 20 percent तक बनाए रखना चाहिए। अब सवाल यह उठता है की किसी भी कारण से सी टी आर बढ़ चुका हों तो उसे तुरंत कंट्रोल कसे करें। इस प्रश्न का सीधा जवाब नीचे वाले पॉइंट में बताया गया है।

CTR प्रमाण से अधिक बढ़ चुका है, अब उसे काबू कैसे करें?

ब्लॉग पर गूगल एड का CTR बढ्ने का कारण जो भी हों, उसे काबू करना काफी आसान है। सब से पहले तो आप अपने ब्लॉग पर से आधे Ad unit हटा दीजिये। ऐसा करने से problem आधी कम हो जाएगी और CTR तुरंत काबू में आ जाएगा। इस प्रयोग को करने पर भी आप के ब्लॉग का CTR ऊपर रह रहा है तो समझ लीजिये की कोई दुश्मन आप के ब्लॉग पर जान बुझ कर fraud click generate कर रहा है। अब ऐसी position में आप Google authorities को Mail भेज कर सूचित कर सकते हैं। जिस से Google उस संदिग्द URL को ब्लॉक कर देगा। और यह कारवाई हो तब तक या एकाद दो दिन तक आप अपनें ब्लॉग पर Google ads disable भी कर सकते हैं। याद रखें की अगर एक बार Google ad account ban हुआ तो फिर से उसे active कराने के लिए काफी पापड़ बेलने पड़ेंगे। इस से अच्छा है की एकाद दो दिन Google ads खुद ही बंद (disable) कर दें जिस से CTR अपने आप नीचे आ जाएगा। और आप का Adsense खाता भी Ban होने से बच जाएगा।

CTR की सम्पूर्ण जानकारी संक्षिप्त में

  • CTR का पूरा नाम Click Through Rate
  • सी टी आर हद से ज़्यादा बढ्ने पर Google Ads दो दिन तक बंद करें।
  • CTR कम है तो गूगल एड्स की जगह बदलें।
  • सी टी आर बढ़ाना है तो organic traffic बढ़ाने पर काम करें।
  • गूगल सर्च पर ब्लॉग पोस्ट पहले पन्ने पर लाना है तो लंबी पोस्ट लिखें।
  • सी टी आर बढ़ाने के लिए लिंक एड टेक्सट एड और पिक्चर एड सब का प्रयोग ज़रूरी।
  • कम CPC देने वाले URL ब्लॉक करने पर CTR बढ़ेगा।
  • पुरानी पोस्ट Repair करें और उसमें ज़रूरी points जोड़ें।
  • Google एड्स ऐसी जगह लगाएँ जहां visitor का ध्यान जल्द जाए।
  • Post के सब से अधिक आकर्षक portion पर बड़ा एड यूनिट लगाएँ।

Conclusion – Google Adsense में CTR ऐसी बला है है जो इन्सान के शरीर के शुगर लेवल की तरह होती है। हमारे शरीर में जैसे शुगर हद से अधिक कम हों तो भी problem और हद से ज़्यादा बढ़ जाये तो भी तकलीफ। इसी तरह CTR भी एक Level से ऊपर चला जाये तो Tension देगा और कम हुआ तो कमाई नहीं दे सकेगा। इसी लिए CTR को बहेतर बनाना है तो Organize तरीके से search engine का ओर्गेनिक traffic बढ़ाने की और ध्यान दें। और Google Adsense policy को बड़ी अच्छी तरह से एक बार पढ़ लें। हम आप को बता दें की गूगल की पॉलिसी अंग्रेज़ी भाषा में लिखी होती है। अगर आप को English पढ़ने में परेशानी होती है तो आप Google का translate website use कर के Policy को अपनी भाषा में रूपांतरित कर के पढ़ सकते हैं। CTR संबंधी और कोई प्रश्न है तो comment area में लिखें।

Tags:,

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *