Google Adsense क्या है और यह कैसे काम करता है

Blogging work कर रहा लगभग हर एक व्यकती Google Adsense के नाम से परिचित होता है। एड्सेंसे किसी भी website या blog से Income पाने का best option है। Google Adsense की parent company Google॰com है। एडसेंस कंपनी advertiser के पास से ads ले कर publisher के ब्लॉग या वैबसाइट पर लगाने का work करती है। इस काम से Google Adsense को advertiser से जो भी revenue मिलता है। उसको वह blogger / publisher से share करती है। इस तरह blogger को writing & publishing work से कमाई मिलती है। advertiser को अपनी product promote करने के लिए large audience मिलती है और Google Adsense Company को कमीशन मिलता है।

Google Adsense Article Table of Content

  1. गूगल एड्सेंसे क्या है।
  2. Advertiser और publisher क्या होते हैं।
  3. Adsense PIN क्या होता है। और वह क्यूँ ज़रूरी है।
  4. गूगल एडसेंस में अपना Bank account कसे जोड़ें।
  5. गूगल एड्सेंसे नेटवर्क काम कैसे करता है।
  6. Google Adsense भुगतान कैसे करता है।
  7. Google Adsense में SWIFT Code क्या है?
  8. एक Googe Adsense अकाउंट अधिक वैबसाइट्स पर लगा सकते हैं।
  9. गूगल एड्सेंसे Payment कब करता है।
  10. गूगल एडसेंस से पैसे कमाने के लिए क्या करना होगा।
  11. Google Adsense से कितने पैसे कमा सकते हैं।
  12. गूगल एडसेंस अलग अलग देश के visitor click पर अलग अलग CPC क्यूँ देता है।
  13. Google Adsesns account ban कब होता है।
  14. गूगल एड्सेंसे के साथ काम करने के लाभ क्या हैं
  15. Google Adsense अकाउंट disapproved हुआ तो क्या करें।
  16. गूगल एडसेंस अकाउंट बन हो गया तो Reactivate हो सकता है?
  17. Google Adsense के विकल्प क्या है।
  18. Conclusion on गूगल एड्सेंसे नेटवर्क।

Google Adsense

(1)गूगल एड्सेंसे क्या है। – What Is Google Adsense

यह Google कंपनी की ही एक ब्रांच कंपनी है। जो Publisher के लिए ad serving और advertiser के लिए product promoting का काम करती है। इस काम के लिए वह कमाई का कुछ हिस्सा अपने पास रखती है और बाकी का share publisher को दे देती है। गूगल एडसेंस किसी वैबसाइट या ब्लॉग के लिए पिक्चर एड, लिंक एड, या टेक्स्ट एड सर्व करती है।

अगर कोई ब्लॉगर अपने वैबसाइट पर गूगल के एडसेंस विज्ञापन का उपयोग करना चाहता है तो उसे, अपनें ब्लॉग पर अच्छा खासा quality कंटैंट पब्लिश कर के एडसेंस की official website पर जा कर apply करना होता है। इस प्रक्रिया के बाद Google Adsense टिम online उस ब्लॉग का दौरा करती है। और अगर उन्हे संतुष्टि होती है तो वह primary approval देती है।

उसके बाद website owner को गूगल एडसेंस का एक advertise generate करना होता है। और फिर अपने ब्लॉग पर किसी widget पर उसे लगाना होता है। ऐसा करने पर कुछ दिन तक ब्लॉग पर ब्लैंक ad बॉक्स दिखेगा। इस प्रक्रिया के बाद एकाद हफ्ते के अंदर Final approval मिल जाये तब google ads live दिखने लगेंगे। और उस पर visitor click होने पर earning शुरू हो जाएगी।

(2)Advertiser और publisher क्या होते हैं। What Is Advertiser and Publisher

Publisher क्या है -> इस सवाल का जवाब बहुत ही सरल है। जो व्यक्ति एक ब्लॉग या वैबसाइट चला रहा है। और उसनें अपने साइट पर गूगल एड्स लगा रखे हैं तो वह Google Adsense का publisher कहा जात है।

एक पब्लिशर का काम होता है अच्छा quality कंटैंट लिख कर पब्लिश करना, जिस से उसके ब्लॉग पर बढ़िया तादाद में visitors आए। और वह सब कंटैंट पढ़ने के साथ साथ अपनी रुचि अनुसार website पर लगे गूगल एड्स पर क्लिक भी करे। जिस से उसे और एडसेंस को कमाई होगी। और advertiser की प्रॉडक्ट प्रमोट होगी।

Advertiser क्या है -> कोई भी businessman या किसी भी प्रकार का छोटा बड़ा business करने वाली कंपनी या सामान्य client जब Google Adsense को अपनी product promote करने को देता है तब वह Google Adsense का advertiser बन जाता है। एडसेंस कंपनी मोल भाव कर के, या अपने भावताल नियमों अनुसार उस विज्ञापन दाता का एड ले कर publisher को website पर लगाने को देती है, और अपना कमीशन कमाती है। कौन से विज्ञापन किस भाव में बिकेंगे या किस एड का क्या क्लिक पर कोस्ट मिलेगा यह Google Adsense तय करता है। और फिर website के niche अनुसार विज्ञापन वितरण कर देता है।

(3)Adsense PIN क्या होता है। और वह क्यूँ ज़रूरी है।

यह एक 4 अंक का कोड होता है। गूगल एडसेंस publisher के घर का पता verify करने के लिए पोस्ट के माध्यम से उसे भेजता है। एक बार Google Adsense account में $10 की रकम जमा हो जाती है तब यह address verification code भेजा जाता है।

पोस्ट के माध्यम से जब एक envelop में यह चार अंक का कोड प्राप्त हो जाए तब publisher को वह कोड अपने गूगल एडसेंस अकाउंट में सबमिट करना होता है। इस प्रक्रिया से यह साबित हो जाता है की, publisher की पहचान सही है और वह कोई fraud नहीं है।

Google Adsense दस डॉलर की रकम जमा होने के बाद कुल 3 बार address verification code भेज कर खाता धारक की पहचान verify करने की कोशिश करता है। किसी कारणों की वजह से तीन बार में यह कार्य ना हो सके तो, Publisher को अपना Government registered ID गूगल एडसेंस वैबसाइट पर Upload कर के खुद का सत्यपान (verification) कराना पड़ता है।

(4)Google Adsens में अपना बैंक अकाउंट कसे जोड़ें

  • सब से पहले Google Adsense अकाउंट में साइन इन करें।
  • अब उसके बाद Gear Icon पर क्लिक कर लें।
  • उसके बाद Side Bar list में से Payment Settings पर क्लिक कर दें।
  • अब Available Forms of payment पर जाएँ।
  • इस जगह पर Add a Bank Account का चयन करें।
  • यहाँ अपनी details भर दें और फिर उसके बाद Proceed टैब पर क्लिक करें।
  • अब अपनी Bank account details को verify (चैक) कर लें।
  • अंत में सब सही होने पर Submit का button दबा दें।
  • इस process के कुछ ही समय में आप का Bank खाता Add हो जाएगा।

(5)गूगल एड्सेंसे नेटवर्क काम कैसे करता है।

इस कंपनी का बड़ा ही सीधा फंडा है। विज्ञापन खरीदो, पुब्लिशर को ads serve करो और आराम से मोटा कमीशन कमाओ। Google अपने Publisher के वेबसाइट कंटैंट और ओडियन्स को टार्गेट कर के related ads वितरण करता है।

गूगल एड्स पर क्लिक होने से publisher को revenue कमाई मिलती है। Google Adsense अपने advertisers से जो भी फ़ीज़ लेता है उसका 68% कमाई अपने publisher को देता है और बाकी बचा 32% खुद के पास रख लेता है।

Google की इस Sharing theory में थोड़ा बहुत बदलाव हो सकता है। इस revenue बटवारे के Percentage की सटीक जानकारी के लिए आप Adsense Revenue Share पर क्लिक कर के पक्की जानकारी हासिल कर सकते हैं।

(Example:- अगर Google Adsense कंपनी किसी advertiser से $10 का एक ad ले कर किसी publisher को ब्लॉग पर लगाने को देती है और उस एड के क्लिक होने से जब $10 की Revenue मिलती है तब वह Publisher को $ 6.8 यानी 68% रेवेन्यू देती है और बाकी का $ 3.2 यानी 32% खुद रखती है।)।

(6)Google Adsense भुगतान कैसे करता है।

हम आप को बता दें की Google Adsense नें Payment करने के लिए अलग अलग देशों में अलग अलग system रखा है। जैसे की EFT transfer, Western Union Money transfer, चैक से भुगतान etc। भारत देश की बात करें तो यहाँ Google भुगतान के लिए EFT यानी इलेक्ट्रिक फ़ंड ट्रान्सफर और चैक पेमेंट सिस्टम का उपयोग करता है।

(7)Google Adsense में SWIFT Code क्या है?

यह एक महत्वपूर्ण पॉइंट है। जब एक देश में दूसरी देश की मुद्रा का धन भेजा जाता है। तब उस publisher के bank account की सही जगह की पहचान करने के लिए गूगल एडसेंस Swift Code मांगवाता है। और जिन Bank का swift code नहीं होता है। उन के पास IFSC Code होता है। जिस से publisher के सही बैंक अकाउंट ठिकाने की पहचान की जाती है। IFSC कोड़ बैंक पासबूक के पहले पन्ने पर अंदर की और लिखा हुआ होता है।

(8)एक Googe Adsense अकाउंट अधिक वैबसाइट्स पर लगा सकते हैं।

एक बात याद रखें की Google Adsense में Multiple account बनाने की गलती कभी ना करें। ऐसा करने पर गूगल एडसेंस आप के दोनों अकाउंट ban कर देगा। और रही बात एक से अधिक ब्लॉग और यूट्यूब चैनल पर एक ही गूगल एडसेंस account use करने की तो, यह किया जा सकता है।

एक ब्लॉगर चाहते उतने ब्लॉग पर अपना approved एडसेंस अकाउंट Use कर सकता है। बस उस Blog साइट का URL अपने adsense अकाउंट में सबमिट करना होगा। approval मिलते ही ads लाइव हो जाएगे।

(9)गूगल एड्सेंसे Payment कब करता है।

इस मामले में Google adsense का एक ही rule है। $100 जमा करो और पैसे निकालो। सौ डॉलर जमा होने से पूर्व कोई publisher अपने Earning में से एक चवन्नी भी नहीं निकाल सकता है।

और मान लीजिये की आप नें इस महीने 15 या 20 तारीख को $100 डॉलर earning जमा कर ली तो Google वह कमाई उसी महीने के अंत में नहीं देगा। उस Earning को पाने ले लिए आप को अगले महीने के end तक wait करना होगा।  

(10)गूगल एडसेंस से पैसे कमाने के लिए क्या करना होगा।

इस कार्य के लिए आप के पास एक वैबसाइट या ब्लॉग होना चाहिए। या फिर एक YouTube चैनल होना चाहिए। जिस पर आप अपना Original कंटैंट डाल कर ढेर सारे visitor ला सकें। ज़्यादा visitor आएंगे तो अधिक CPC वाले ads मिलेंगे।

और visitors ब्लॉग पर या यूट्यूब चैनल पर लगे विज्ञापन क्लिक करेंगे तो कमाई भी बढ़ेगी। कोई भी नया ब्लॉगर पहले मुफ्त में blogger website पर free ब्लॉग बना सकता है। जब website पर प्रति दिन 1000 से 1500 visitor आने लगे और 25 से 30 quality article पब्लिश हो जाए तब गूगल एडसेंस के लिए apply कर देना चाहिए।

Minimum visitor और content limit का कोई rule तो नहीं है पर फिर भी ऊपर की लाइन में कहे अनुसार आगे बढ्ने पर approval मिलने के आसार अधिक रहते हैं। याद रहे की Google Adsense के लिए apply करें तब, वैबसाइट के मुख्य page पर Privacy Policy, Contact Us, About Us, Site Map और Disclaimer जैसे pages ज़रूर बना लें। तथा एडसेंस के लिए अप्लाई करने से पहले अपने वैबसाइट का डिज़ाइन सही कर लें।

(11)Google Adsense से कितने पैसे कमा सकते हैं।

यह सवाल बिलकुल वैसा है की, आप समुंदर में से पानी कितना पी सकते हैं। या समुंदर से कितनी मछ्लीयां निकाल सकते हैं। गूगल एडसेंस एक दरिया है। उसमें से कोई publisher अपनें Talent अनुसार Unlimited कमाई कर सकता है।

यह बात इस पर भी depend करती है की, publisher content किस subjects पारा लिख रहा है। उसका writing & formation कैसा है। ब्लॉगर अपने ब्लॉग का कंटैंट promote कैसे करता है। उसके वैबसाइट का SEO और Design कैसा है। ब्लॉग पर कंटैंट कितना है। ब्लॉगर कितने अंतराल में कंटैंट पब्लिश कर रहा है।

ऐसे कई सारे factor को मिलानें से यह बात सुनिश्चित होती है की वह publisher (Blogger) अपने वैबसाइट से कितना कमा सकता है। Blogging में Google ads की earning CPC पर भी Depend होती है। अगर High Paying Keyword वाले पोस्ट ज़्यादा हुए तो कमाई भी ज़्यादा मिल सकती है।

उदाहरण के तौर पर Health, Legal, Finance, Loan, Insurance, Mortgage ऐसे keyword पर अधिक CPC (क्लिक पर कोस्ट) दिया जाता है पर इस प्रकार के कंटैंट के reader बहुत कम मिलते हैं। और Film, Jokes, Facts, GK, Essay ऐसे विषयों के keywords पर CPC काफी कम होती है।

(12)Google Adsese अलग अलग देश के visitor click पर अलग अलग CPC क्यूँ देता है।

ब्लॉग पर Traffic किस Country से आता है इस बात का भी बहुत फर्क पड़ता है। एशियन और आफ्रिकन Visitors वाले ब्लॉग को काफी का  CPC दिया जाता है। चूँकि इस zone के Advertiser विज्ञापन पर अधिक खर्चा नहीं करते हैं।

European और USA साइड के Traffic को target करने पर अधिक CPC मिलता है। चूँकि वहाँ पर advertising market अच्छा है। एक ब्लॉग की income पर इन सभी Factors का effect पड़ता है। गूगल एड्सेंसे के साथ  काम करने का एक और लाभ है की यह काफी विश्वशनिय है। इसमें fraud होने के चांस ना के बराबर हैं।

(13)Google Adsesns account ban कब हो सकता है।

  • ड्रग्स रिलेटेड लेख, पॉर्न कंटैंट, हिंसात्मक और भड़काऊ लेख या फिर कॉपीराइट कंटैंट पब्लिश करने पर Google Adsense अपने ads disable कर सकता है। या फिर पूरा अकाउंट ही ban भी कर सकता है।
  • एक ही कंटैंट बार बार पब्लिश करने पर, खुद के ब्लॉग पर लगे गूगल एड्स पर क्लिक करने पर और एक page पर पास पास एड्स लगा नें पर भी Google Adsense website को penalize कर सकता है।

(14)Google Adsense के साथ काम करने के लाभ क्या हैं।

एडसेंस के साथ काम करने का सब से बड़ा यह लाभ है की यह service बिल कुल मुफ्त है। Google Adsense इस के लिए कोई चार्ज नहीं लेता है। और Google to Blogger पर Blog और YouTube वैबसाइट पर channel भी मुफ्त बनाने देता है।

इस तरह गूगल के यह दोनों वैबसाइट कंपनी बिना investment income पाने का अवसर प्रदान करते हैं। गूगल एडसेंस कमाई approve होने के बाद direct जुड़े हुए बैंक खाते में Publisher का पैसा भेज देता है।

(15)पहली ही बार में गूगल एडसेंस अकाउंट disapproved हुआ तो क्या करें।

नया Google Adsense अकाउंट बनाते वक्त कई बार ब्लॉगर गलती से sign up form में उलट पुलट information भर देते हैं। या ब्लॉग की quality ठीक ना होने पर एडसेंस application रिजैक्ट कर देता है। ऐसा होने पर घबराने की कोई ज़रूरत नहीं है। कई लोगों के साथ ऐसा होता है। मेरे साथ भी हो चुका है।

जब भी गूगल आप का एडसेंस अकाउंट proposal ठुकराता है तब ऐसा करने के कारण दर्शाता हुआ एल Email भेजता है। उस Email को ध्यान से पढ़ें और सूचना अनुसार अपने Blog या Website में सही बदलाव कर के फिर से Apply कर दें। याद रहे की वह Email delete ना करें। चूँकि resubmission के लिए दूसरा mail link गूगल नहीं भेजगा।

(16)क्या Google Adsense Ban हो जाने के बाद Reactivate कराया जा सकता है?

एक बार गूगल एडसेंस का अकाउंट Ban हो जाने के बाद उसे फिर से शुरू कराना बहुत मुश्किल काम है। अगर किसी serious offence के तहत account ban हुआ है तो गूगल एडसेंस आप के अकाउंट को किसी कीमत पर activate नहीं करेगा।

लेकिन अगर यह किसी minor गलती से हुआ है और आप उसे सुधार कर request करें तो शायद Google Adsense Management अकाउंट मामले की जांच कर के अकाउंट reactivate कर सकता है।  

(17)गूगल एडसेंस के विकल्प क्या है।

डिजिटल मीडिया और इंटरनेट के इस युग में ऑनलाइन advertising की बहुत मांग है। Google Adsense कंपनी को टक्कर देने के लिए कई सारी एड नेटवर्क कंपनियाँ मैदान में है। उदाहरण के तौर पर Chitika, Zakaaas, Desipearl, Adnow, Bidvitiser, Media॰net, etc। लेकिन इन सब में सब से अच्छा result गूगल एडसेंस का ही है।

एडसेंस ही सब से भरोसेमंद और ज़्यादा कमाई का share देने वाली दिग्गज कंपनी है। अगर किसी का Google Adsens अकाउंट ban हुआ है तो नया अकाउंट दूसरे ID से खुलने तक वह दूसरे वैकल्पिक ads network कंपनियों के विज्ञापन लगा कर कमाई कर सकते हैं। पर long team relation के लिए गूगल एडसेंस ही बेस्ट है।

(18)Conclusion on Google Adsense – गूगल एडसेंस विशेष

घर बैठे ब्लॉगिंग या यूट्यूब विडियो बना कर उसे पब्लिश कर के पैसे कमाने के लिए गूगल एडसेंस किसी वरदान से कम नहीं है। अगर कोई इन्सान ईमानदारी से एक या दो साल महेनत करे तो आराम से महिना 20 से 50 हज़ार तक अपनी Google Adsense earning पहुंचा सकता है।

कई लोग software डाल कर, गलत सलत क्लिक्स कर के और दूसरे अनैतिक हथकंडे अपना कर revenue कमाने की कोशिश करते हैं। कुछ लोग इसमें कामयाब भी हो जाते होंगे। पर ऐसी धोखाधड़ी ज़्यादा देर तक नहीं चलती है।

दूसरे दृष्टिकोण से देखें तो Unethical clicks से Advertiser को कोई फाइदा नहीं होगा, तब वह Google Adsense को विज्ञापन नहीं देगा। और अगर एडसेंस के पास विज्ञापन ना हुए तो वह ब्लॉगर को क्या देंगे…. तम्बूरा? इस लिए इस उपयोगी Earning network system का respect कर के ईमानदारी से कमाई करनी चाहिए। – धन्यवाद।

12 Comments

  1. पवन सिंह June 29, 2017
    • Paresh Barai June 29, 2017
  2. Bhaskar Mishra June 29, 2017
    • Paresh Barai June 29, 2017
  3. Rohan June 30, 2017
    • Paresh Barai June 30, 2017
  4. Rohan June 30, 2017
    • Paresh Barai June 30, 2017
  5. Sonu Rajput July 9, 2017
    • Paresh Barai July 9, 2017
  6. Mahendra kumar August 15, 2017
    • Paresh Barai August 17, 2017

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *