Micro niche blogging A to Z information in Hindi

ब्लॉगिंग वर्क करने वाले व्यक्ति जब एक ख़ास किसी टोपिक पर कंटेन्ट लिख कर उसे ब्लॉग पर पब्लिश करते हैं तो उसे Micro niche blogging कहा जाता है| अगर अब ही आप को इस टॉपिक पर जानना है तो में Micro niche blogging एक उदहारण द्वारा आप को समजता हूँ|

मान लीजिये की आप टेक्नोलॉजी क्षेत्र पर ब्लॉगिंग कर रहे हैं| तो ऐसे में टेक ज़ोन में कई सारे niche पड़ते हैं जैसे की, टीवी टेक, मशिनरी, नेटवर्किंग, कम्युनिकेशन टेक या फिर कोई और दूसरी अन्य प्रोडक्ट| अब आप को इन सभी सब्जेक्ट पर अलग अलग ब्लॉग मिल जायेंगे|

अलग अलग niche पर टेक ब्लॉगर जब काम करते हैं तो वह एक टेक्नोलॉजी ब्लॉगर कहा जाता है| लेकिन इस लेख में हम बात कर रहे हैं Micro niche blogging पर| आइये ब्लॉगिंग की दुनियाँ में अँधाधुंध कमाई देने वाले Micro niche blogging से जुड़ी जानकारी पॉइंट टू पॉइंट डिस्कस कर लेते हैं|

Micro niche blogging

Micro niche blogging कैसे शुरू करें?

यह काम शुरू करना है तो सब से पहले आप को main keyword रिलेटेड domain खरीदना होगा| दो साल के लिए .com domain आप को 1200 से 1500 में बड़ी आसानी से मिल जायेगा| होस्टिंग की बात करें तो wordpress ब्लॉग होस्टिंग आप प्रति माह 150 से 250 तक का ले सकते हैं|

अगर इसके खर्च का एस्टीमेट लगाये तो 4000 से 5000 आप को होस्टिंग में दो साल के लगाने है| शुरुआत में खर्च की बात सुन कर 10 में से 8 लोग पोस्ट छोड़ कर भागने की सोचेंगे| लेकिन रुकिए,,, में जो प्लान समजाने जा रहा हूँ उसकी इनकम जानने के बाद आप इस खर्च को चाय पान की तरह समजेंगे|

Micro niche का उदहार –

उदहारण के तौर पर अगर आप एक हेल्थ ब्लॉगर हैं और हेल्थ सेक्शन में कई सारी Micro niche पड़ती हैं जैसे की, वुमन हेल्थ, किड्स हेल्थ, आयुर्वेद, एलोपेथी, मसाज थेरेपी, होम रेमेडीज और दूसरी कई हेल्थ से जुड़ी चीज़े| तो अब अगर आप हेल्थ के जनरल टॉपिक्स पर लिखते हैं तो आप एक हेल्थ जनरल ब्लॉगर हैं|

इस तरह के ब्लॉग पर बेहद स्पर्धा है| ऐसे ब्लॉग बड़ी मुश्किल से सफल होंगे| लेकिन मान लीजिये की आप Micro niche blogging में सिर्फ हेल्थ के एक सेक्शन वुमन हेल्थ पर ही अलग अलग आर्टिकल लिखते हैं तो आप एक Micro niche blogger बन जाते हैं|

Domain कैसा खरीदना है?

दोस्तों यह पहला कदम आप की सफलता और निष्फलता decide करेंगा| आप को Micro niche blogging के लिए हमेशा उसी keyword वाला domain लेना है जो बहुत सारे लोगों द्वारा search किया जाता है|

अब मान लीजिये की आप हेल्थ ब्लॉगर हैं और आप का माइक्रो niche वुमन हेल्थ है तो आप को domain name woman health + कोई और वर्ड लगा कर domain खरीदना है|

ऐसा करने से आप का ब्लॉग बड़ी आसानी से search इंजिन में रेंक होगा| और जब ब्लॉग search लीस्ट में ऊपर आएगा तो अधिक ट्रैफिक मिलेगा और ज्यादा traffic मतलब ढेर सारे ऐड क्लिक और ऐड क्लिक अधिक तो अधिक पैसा|

Note – Domain और होस्टिंग एक ही कंपनी से कभी नहीं खरीदना है| अगर आप यह गलती करते हैं तो आप को आगे कई सारे complications का सामना करना पड़ता है|  

Micro niche blogging के लिए पोस्ट कैसे लिखना है?

अब अगर आप ने Micro niche blogging स्टार्ट किया है तो आप जिस भी सब्जेक्ट पर लिख रहे हैं उस से जुड़े हुए अन्य ब्लोग्स पर एक नज़र डाल लीजिये| उनके पास जनरल catagory का कंटेन्ट हुआ भी तो वह उसे पब्लिश नहीं करेंगे| जिस niche पर वह काम कर रहे हैं उसी पर पूरा focus लगायेंगे|

ऐसा करने से visiters और users को एक massage मिलता है की, हमें जो भी जानकारी मिल रही है एक specilist से मिल रही है| जिस पर भरोसा आम जनरल ब्लॉग से अधिक किया जा सकता है|

यह बिलकुल वैसा ही है जैसे हम खास तरह के रोग होने पर उस रोग के सर्जन के पास जा कर इलाज कराते हैं ना की किसी आम डॉक्टर से दवा लेते हैं|

Micro niche blogging में ब्लॉग को प्रोमोट कैसे करें?

वैसे तो कहा जाता है की बेचना आये तो इन्सान धुल भी बेच सकता है| लेकिन एक बात हमेशा याद रखिये दोस्तों की, आप लोगों को उल्लू एक बार बना सकते हैं बार बार नहीं बना सकते हैं|

इस लिए जो भी इनफार्मेशन आप ब्लॉग पर शेयर करें उस पर अच्छे से रिसर्च करें| और उसके बाद ही वह कंटेन्ट लोगों में शेयर करें| अब बात रही प्रमोशन की तो मै आप को यही सलाह दूंगा की,,,,

आप ऐसे प्लेटफोर्म पर ऐसे ग्रुप में अपना प्रोडक्ट प्रोमोट करें जहा उस प्रोडक्ट की कीमत है, जहाँ लोग उस टॉपिक पर बात करते हैं, जहाँ लोगों की उस सब्जेक्ट पर प्रोब्लेम्स आती हैं और लोग उसका solution ढूंढते हैं|

Micro niche blogging के लिए ट्रैफिक कैसे हासिल करें ?

ब्लॉगिंग टाइम लेता है| अगर आप ये सोच रहे हैं की आज मैंने 1000 वर्ड वाले 15 आर्टिकल लिख कर पब्लिश कर लिए और गूगल ऐडसेंस से मोनाटाईज़ कर लिया तो daily income होने लगेगा ऐसा बिलकुल नहीं होगा|

आप को सब से पहले तो अपने कंटेन्ट की क्वालिटी पर focus करना होगा| अगर आप कुछ लिख रहे हैं तो वह कंटेन्ट लोगों के लिए हेल्पफुल होगा| लोगों का ज्ञान बढेगा तभी लोग रुक कर अपना समय दे कर आप का ब्लॉग पढेंगे|

और दूसरी बात यह है की इन्टरनेट पर अनगिनत टेलेंटेड क्रिएटर हैं जिनके आर्टिकल rank की दौड़ में लगे होते हैं| उन सभी में आप का आर्टिकल सब से अच्छा और ज्ञानवर्धक हुआ तभी उस पर ज्यादा ट्रैफिक आएगा और वह search इंजिन पर पहले page पर rank होगा|

तो बात बड़ी साफ़ है की आप को, अपने टॉपिक Micro niche blogging वाले दुसरे लोगों के आर्टिकल पढने हैं| और इस बात की सिख लेनी है की उन लोगों नें क्या क्या पॉइंट्स अपने आर्टिकल में शामिल किये हैं|

अगर आप उन सभी पॉइंट्स और उसके आलावा दुसरे अधिक पॉइंट्स अच्छे से लिख कर समजा सकते हैं तो ऑटोमेटिकली आप का आर्टिकल search रेंक में ऊपर आएगा और लोग उसे ख़ुशी कुशी शेयर भी करेंगे|

Micro niche blogging SEO

दोस्तों एक बात हमेशा ध्यान में रखें की आप का आर्टिकल गूगल search इंजिन के crowlers भले ही स्कैन करते हों लेकिन उसे पढ़ते तो आम लोग ही हैं| इस लिए deep seo के बेकार के चक्कर में ना पढ़ें|

हां एक रीडर की दृष्टि से सोचे और समझे की आप जब कोई आर्टिकल पढ़ते हैं तो आप क्या महसूस करते हैं| किस तरह के font size किस प्रकार के पेराग्राफ और किस तरह के हैडिंग आप को क्लिक करने पर मजबूर करते हैं|

बस इन्ही सभी सेल्फ एक्सपिरियंस को ध्यान में ले कर अपने ब्लॉग पोस्ट्स का on page और of page SEO करें| इस काम के लिए किसी एक्सपर्ट की जेब भरने की ज़रूरत नहीं है|

Orignal content for Micro niche blogging

अगर आप कुछ लिख रहे हैं तो वह डिटेल्स भले ही इन्टरनेट पर किसी नें अपनी शैली में लिख रखी हों लेकिन शब्द और वाक्य आप के होनें चाहिए|

उदाहरण के तौर पर यहाँ में Micro niche blogging पर आर्टिकल लिख रहा हूँ लेकिन में जो बता रहा हूँ वह बात तो मुझ से पहले हज़ारो ब्लॉगर नें लिख कर पब्लिश की होगी| अब इस बात से कोई यह नहीं बोल सकता की इस राइटर नें हमारा कंटेन्ट आईडिया चुरा लिया|

चूँकि Micro niche blogging सब्जेक्ट पर किसी का कॉपीराईट नहीं है| लेकिन हां अगर में किसी ब्लॉग artice का पूरा कंटेन्ट या कोई पेराग्राफ same उठा कर अपने ब्लॉग पर पेस्ट कर देता हूँ तो वह कॉपीराइट का issue हो जाएगा|

ब्लॉगिंग में आप दुसरे ब्लॉगर के कंटेन्ट से आईडिया ले सकते हैं पर कोपी नहीं कर सकते हैं|

Micro niche blogging IMP टिप्स

सब से पहले तो main keyword रिलेटेड domain लेना है| अलग कम्पनी से होस्टिंग लेना है| दोनों को जोड़ना है| अब आप नें जो niche सेलेक्ट किया हुआ है उस पर 12 से 15 आर्टिकल्स का टारगेट बनाना है|

हर दिन एक या हफ्ते में दो से तीन आर्टिकल्स को ब्लॉग पर पब्लिश करना है| दिन में दो से तीन बार उस पुब्लिश किये हुए आर्टिकल को सोशल मिडिया पर शेयर करना है|

जब आप के ब्लॉग पर daily 100 प्लस विजिटर आने लगें तब आप को गूगल ऐड नेटवर्क एडसेंस के लिए अप्लाई कर लेना है|

और जब अप्रूवल मिल जाए तो प्रति page 3 पिक्चर ads और तीन लिंक एड्स ब्लॉग पर लगा कर कमाई शुरू करनी है| याद रहे की हम Micro niche blogging कर रहे हैं तो हमें अपना main niche ही expand करना है|

ताकि search engine में हमारा ब्लॉग अच्छे से रेंक हो जाये| रही बात आर्टिकल लेंथ की तो ऐसा नहीं है की search renk में जो ब्लॉग 2000 वर्ड का है उसे बिट करने के लिए आप को 2100 वर्ड का ही आर्टिकल लिखना है|

आप अगर 1500 वर्ड का आर्टिकल लिख कर उसे better तरीके से समझा सकते हैं तो वह आर्टिकल अधिक लंबे आर्टिकल को भी बिट कर के search engine में आगे display हो जायेगा|

Micro niche blogging visitor intereraction का महत्त्व

आप किसी भी फिल्ड में है या कोई भी प्रोडक्ट बेच रहे हैं इस से फर्क नहीं पड़ता है| अगर आप अपने ग्राहक / विजिटर से आदान प्रदान करने में एक्टिव हैं तो लोग आप के ब्लॉग या स्टोर पर बार बार आयेंगे|

लोगों को जो भी दिक्कत आती है उसके बारे में कमेंट सेक्शन में पूछ नें पर आप को तुरंत उसका solution देना चाहिए| ऐसा करने से आप के ब्लॉग का growth बड़ी तेज़ी से होगा| कंटेन्ट ब्लॉग पर डिलीवर करना आप का मुख्य काम है|

लेकिन जब आप किसी व्यक्ति की प्रॉब्लम दूर करने हैं तो यह एक service बन जाती है| और दुनियाँ का कोई सा भी बिज़नस उठा कर देख लीजिये जहाँ अच्छी service मिलती है वहां ग्राहक थोड़ी कम क्वालिटी वाली प्रोडक्ट भी खरीद लेते हैं|

Give value for free

काम चाहे कोई भी हों, अगर आप अपने ग्राहक या यूजर को कुछ कीमती टिप या वस्तु मुफ्त में देते हैं तो आप की एक शाख बनती है| मुफ्त दी गयी चीज़ आप के लिए कीमती प्रमोशन और पैड वर्क लाती है|

उदाहरण के तौर पर जिओ नेटवर्क को देखिये| जब ये कम्पनी नहीं नयी आई थी तो लोगों को मुफ्त इन्टरनेट बाँट कर करोडो users अंदर कर लिए अब शान से वोडाफोन, आइडिया और दुसरे लीडिंग नेटवर्क के साथ कंधे से कंधा मिला कर दोनों हाथों से पैसे बटोर रही है|

आप भी अगर अपने बिज़नस में सही stretargy लगा कर कुछ knowdlage या कोई छोटी से कीमत वाली चीज़ मुफ्त देते हैं तो आप बड़ी आसानी से paid market में स्थापित हो सकते हैं|

Earning and Compition in Micro niche blogging

जनरल ब्लॉगिंग अगर एक महीने का 100 डॉलर कमा के दे सकता है तो Micro niche blogging उस से दस गुना कम कर दे सकता है| ऐसा इस लिए होता है की आप नें domain niche रिलेटेड चुना है|

आप कंटेन्ट Micro niche सब्जेक्ट पर लिख रहे हैं और आप के पोस्ट अच्छी लेंथ के और रेगुलर पोस्ट हो रहे हैं| अब बात करते हैं स्पर्धा की तो, इस टाइप की ब्लॉगिंग में बहुत कम compititon होता है|

एक ही nerro सब्जेक्ट पर अधिक कंटेन्ट लिख सके उतना टेलेंट सब में नहीं होता है| इसी कारण से इस तरह का Micro niche ब्लॉग बहुत ही वैल्युएबल हो जाता है और इसे ज्यादा rank मिलता है| तो उम्मीद करता हु की दोस्तों आप को Micro niche blogging से जुड़ा यह आर्टिकल उपयोगी रहेगा|

और अगर आप के पास माइक्रो niche ब्लॉगिंग से जुड़ा कोई सवाल है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य पूछे में समय मिलते ही रीप्ले करूँगा| पोस्ट अच्छी लगे तो ब्लॉग को सबस्क्राइब कर लीजियेगा| धन्यवाद|

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *