Start Successful Blog Earn Money

ब्लॉगिंग वर्क में success rate बहुत कम है| लेकिन जो ब्लॉगर इस काम में सफल हैं| उनकी इनकम और शोहरत आसमान पर है| किसी भी चीज़ के बारे में लिखना मुश्किल नहीं है| लेकिन जो पोस्ट लिखी हैं उन्हें उपयोगी शैली में लिखना हर किसी के बस की बात नहीं है| आज के समय में लोगों को शोर्टकट चाहिए| अगर कोई व्यक्ति ब्लॉगिंग में शोर्टकट ढूंढे रहा है तो यह फील्ड उसके लिए नहीं है| successful blog क्रिएट करना एक आर्ट है|

successful blog

इस काम में कड़ी मेहनत और ज्ञान चाहिए| आज के समय में इन्टरनेट पर हर एक सब्जेक्ट पर ज्ञानवर्धक content मौजूद है| अब अगर आप को उन सभी articles के ऊपर rank करना है तो एक्स्ट्राऑर्डिनरी काम देना होगा| ऐसा नहीं कर पाए तो, आप 1000 पोस्ट पब्लिश कर देंगे तो भी traffic नहीं मिलेगा| successful blog बनाने के लिए क्या क्या points ध्यान में लेने हैं इसी विषय पर यह आर्टिकल आधारित है| तो आइये इस पॉइंट को अच्छे से समझते हैं|

Successful Blog Most Important Points

Platform –

जिस तरह एक दूकान लगाने से पहले अच्छी जगह चुन कर काम शुरू करना ज़रूरी है| ठीक वैसे ही ब्लॉगिंग के लिए बढ़िया प्लेटफोर्म चुनना ज़रूरी है| मुफ्त में काम शुरू करना है तो ब्लॉगर से काम करें| और professional work करना है तो word-press चुनें|

Domain –

होस्टिंग का काम है आप के articles और मिडिया फाइल्स को store कर के डाटा ऑनलाइन provide करना| और domain आप की वेबसाइट का नाम है| आप के काम की पहचान है| इस लिए domain हमेशा आप की niche से रिलेटेड keyword वाला ही चुनें|

Niche –

यह शब्द कई लोगों के लिए अटपटा है| लेकिन इसका अर्थ बड़ा साधारण है| niche यानी वह विषय जिस पर आप के लेख आधारित होंगे| successful blog बनाने के लिए niche सही चुनना बहुत आवश्यक है|

Theme –

इस चीज़ को हमारे शरीर पर पहने जाने वाले कपडे की तरह समझें| ब्लॉग पर कौनसी चीज़ कहाँ है| किस लिंक से क्या खुलेगा| और कंटेन्ट से जुड़ी छोटी बड़ी नेविगेशन थीम पर तालबद्ध होगी तो विजिटर ज्यादा देर रुकेगा|

SEO –

इन्टरनेट पर उपलब्ध लाखो करोडो pages में आप का पोस्ट या page search इंजिन के पहले पाने पर दिखे| अगर आप ऐसा चाहते हैं तो search engine optimization आप को अच्छे से सीखना होगा| यह काम ज्यादा मुश्किल नहीं है|

Honesty –

आप को अगर अपने रीडर से लॉन्ग टर्म रिलेशन बनाए रखना है| तो आप को उनके साथ इमानदार रहना होगा| अगर आप ब्लॉग के टाइटल में कुछ और लिखेंगे और पोस्ट में कुछ और मसाला भरते हैं तो लॉयल विजिटर कभी नहीं मिलेंगे|

Point to Point –

एक बात सब जानते हैं की लम्बें आर्टिकल search engine में ऊपर rank होते हैं| लेकिन जब उस कंटेन्ट में दम नहीं होगा| आप के शब्द वैल्युएबल नहीं होंगे तो आप का पोस्ट search engine में ऊपर आ कर भी पिछड जायेगा|

Formatting –

बात किसी जगह पर घुमने जाने की हों, बाहर खाना खाने की हों या फिर कुछ खरीदने की हों| हम सब ऐसी जगह का चुनाव करेंगे जो साफ़ सूत्री हो| और लाभदायी हो| ब्लॉगिंग में भी ऐसा ही है| अगर आप के ब्लॉग पर ठीक से formatted कंटेन्ट नहीं डाला जाएगा तो रीडर irritate हो कर चला जाएगा|

Technic –

किसी जगह बुद्धि से काम लिया जाता है तो किसी जगह बल की ज़रूरत होती है| ब्लॉगिंग में भी कही पर शोर्ट में अपनी बात निपटा देनी होती है तो कहीं पर कोई कोई पॉइंट विस्तार से बताना समजना पड़ता है| यह कला आप नहीं सीखते हैं तो successful blog कभी क्रिएट नहीं कर पायेंगे|

Images –

वैसे तो एक ब्लॉग की जान उसका दमदार कंटेन्ट ही होता है| लेकिन अगर उसमें अच्छी क्वालिटी वाली दो से तीन images डाल दी जाए तो सोने पर सुहागा हो जाता है| हर एक successful blog के एडमिन images का चुनाव बहुत सोच समझ कर होशियारी से करते हैं|

Length –

अगर आप चाहते हैं की, लॉन्ग टर्म के लिए आप का आर्टिकल सर्च इंजिन पर सब से ऊपर रहे तो आप को 1500 से 3000 शब्द के क्वालिटी आर्टिकल पोस्ट करने होंगे| याद रहे की, बेफिजूल के शब्द भरने से आर्टिकल rank नहीं करेगा| हर एक शब्द और हर एक वाक्य में कुछ value होना बहुत ज़रूरी है|

Back-links –

अच्छी क्वालिटी की do follow back-links आप के ब्लॉग को ढेर सारा ट्रैफिक दे सकती है| लेकिन याद रहे अगर आप एक ही दिन में 50 से 100 बेक लिंक बनाने जाते हैं तो गूगल आप के ब्लॉग को स्पाम भी करार दे सकता है| इस लिए successful blog बनाना है तो हर दिन 5 से 10 क्वालिटी बेक लिंक क्रिएट करें|

Guest posting –

कई लोग सोचते हैं की हम किसी बड़े ब्लॉग के लिए मुफ्त में कंटेन्ट क्यूँ लिखें| लेकिन हम आप को बता दें की guest posting विजिटर लाने का full proof तरीका है| जिस ब्लॉग पर हजारो लाखो में ट्रैफिक आता है| ऐसे ब्लॉग पर आप का छपा हुआ एक do follow क्वालिटी आर्टिकल ढेर सारा ट्रैफिक ला सकता है|

Internal linking –

अगर आप अपने पोस्ट किये हुए आर्टिकल्स के लिंक नए पोस्ट में डालते हैं तो पुराने आर्टिकल्स को लिंक जूस मिलता है| जिस कारण वहां भी ट्रैफिक आता रहता है| इस प्रक्रिया से आप के ब्लॉग के page view और ad click में तगड़ा हिजाफा होता है|

Tags –

इन्टरनेट पर सर्फिंग करने वाले लोग जिस keyword को search engine में लिख कर search करते हैं उन्हें हम अपने आर्टिकल में टैग कर सकते हैं| ताकि जब भी कोई विजिटर उन शब्दों को लिख कर search करे तो हमारा पोस्ट search लिस्ट में सब से ऊपर display हो सके|

Thumbnail –

सामान कैसा भी हो, पैकेट जबराकू हुआ तो माल बिक ही जाता है| ब्लॉगिंग में थंबनेल और टाइटल पैकेट की तरह ही है| इन दोनों चीजों में दम नहीं हुआ तो विजिटर आप के आर्टिकल को खोलेगा ही नहीं| इस लिए पोस्ट लिखने में जितना टाइम लगाओ उतना ही टाइम टाइटल बनाने और thumbnail बनाने में लगाओ|

Heading line –

हमेशा याद रखें की, suspense वाली हेड लाइन ज्यादा क्लिक लाती है| इस लिए कुछ ऐसा टाइटल बनायें ताकि रीडर को क्लिक कर के इनफार्मेशन पढने की उत्सुकता जागे| यह successful blog बनाने की सब से बड़ी key है|

Underline –

जब आप पोस्ट लिखते हैं तो वह फ्लेट नहीं जानी चाहिए| आप को pin points को हमेशा underline करना चाहिए| ऐसा करने से आप के रीडर्स की रूचि आर्टिकल पढने में लगी रहेगी| और आप को अधिक view time मिलेगा| successful blog  में imp पॉइंट्स underline किये जाते हैं|

Image SEO –

जब आप एक copyright फ्री फोटो अपने ब्लॉग में पोस्ट करते हैं| तब उसे बड़ी आसानी से SEO किया जा सकता है| इमेज को क्लिक कर के उसकी प्रॉपर्टी में alt tag देना चाहिए| ऐसा करने से जब भी उस image को कोई क्लिक करेगा तो वह सीधा search engine से आप के ब्लॉग पोस्ट पर आएगा|

Motorization –

हम कोई भी काम करेंगे| हमारा ultimate goal ज़्यादातर पैसा कमाना ही होता है| इस लिए ऐसा कंटेन्ट लिखें जिसे आप गूगल एड्सेंसे या किसी अन्य बढ़िया नेटवर्क से monetize करा सकें| बिना पेट्रोल गाड़ी नहीं चलती| successful blog बनाना है तो उसे maintain रखने के लिए income source भी चाहिए|

Continuity –

हर दिन पोस्ट करना ज़रूरी नहीं है| लेकिन एक ridham ज़रूर होना चाहिए| आप के रीडर को पता होना चाहिए की आप के ब्लॉग पर वीक में एक बार, दो बार, या तीन बार पोस्ट पब्लिश होता ही है| ऐसा करने से लॉयल फेन बेस बनेगा|

E mail list –

किसी भी बिज़नस को सफल बनाना है तो उसे मार्केट करना ज़रूरी है| इसी लिए ब्लॉगिंग में subscriber का बड़ा महत्व है| जब भी आप ब्लॉग पर पोस्ट पब्लिश करते हैं तब एक प्रोमो मेल यूजर को जाना चाहिए| जिस से वह तुरंत आप के ब्लॉग पर आ कर नयी पोस्ट पढ़ सके|

Helping nature –

अगर आप किसी नए ब्लॉगर को हेल्प करते हैं| तो ऐसे में आप की एक क्रेडिट बनती है| लोग आप को पहचानने लगते हैं| और अगर आप की टिप्स वैल्युएबल है तो आप paid service भी फ्यूचर में दे सकते हैं|

 

page Speed –

ब्लॉग में राइटिंग कितना भी वैल्युएबल है| अगर आप का ब्लॉग जल्दी से लोड नहीं होगा| तो यूजर उस पर ज्यादा सर्फ नहं करेगा| इस लिए blog SEO पर ठीक से ध्यान दीजिये|

Target Audience –

आप जिस niche पर कंटेन्ट लिख रहे हैं| उस टॉपिक को जानने के लिए कौन कौन interested है यह ज्ञान आप को होना ज़रूरी है| अगर आप टेक ब्लॉगर हैं और लाइफस्टाइल ग्रुप्स में कंटेन्ट लिंक प्रमोट कर रहे हैं तो उन लोगों को आप के पोस्ट में कोई interest नहीं होगा|

Readability –

अच्छा लिखना ज़रूरी है| लेकिन उसे अच्छे से प्रेजेंट करना और भी ज़रूरी है| इस लिए हमेशा छोटे पेराग्राफ का इस्तमाल करें| ताकि reader पढ़ते पड़ते बोर ना हो जाये| और खो ना जाये| बढ़िया फोर्मेटिंग और छोटे paragraph successful blog की नीव है|

Suspense –

आप के ब्लॉग पोस्ट पर क्या इनफार्मेशन दी जायेगी| इस बात को ओवर व्यू में बताना ज़रूरी है| लेकिन अगर आप चाहते हैं की, आप का रीडर पूरी पोस्ट पढ़ें| उसे स्किप ना करे तो कुछ ना कुछ suspense पोस्ट में बना रहना चाहिए| उदहारण के तौर पर – मै इस पोस्ट के अंदर हर दिन $10 कमाने का टिप्स बताऊंगा| या फिर अगर आप पूरी पोस्ट पढ़ते हैं तो अपने ब्लॉग पर daily 500 विजिटर लाने का टिप्स मिलेगा|

Anchor –

कभी कभी पेराग्राफ पढना बोर्रिंग हो जाता है| ऐसे में अगर आप एक एक पेराग्राफ को attractive एंकर वर्ड दे देते हैं तो रीडर उसे बड़ी उत्सुकता से पढता है| और जब वह किसी टॉपिक पर नहीं जानना चाहता है तो, एंकर वर्ड पढ़ कर उस paragraph को skip भी कर सकता है|

Trending –

आप जो कंटेन्ट लिख रहे हैं| वह सब्जेक्ट ट्रेंड में है भी या नहीं| इस बारे में जानकारी हासिल करें| अब आज स्मार्ट फ़ोन और आई फ़ोन के जमाने में मै डंडी वाले कीपैड फ़ोन के बारे में लिखूंगा तो उसमें कोई interest नहीं लेगा| इस लिए ज़रूरी है  की आप कंटेन्ट क्रिएट करने से पहले मार्केट सर्वे कर लें|

Sub heading –

ब्लॉग टाइटल के बाद main points को highlight करने के लिए sub headings का उपयोग किया जाता है| यह तकनीक ब्लॉग को rank करने में भी सहायक होती है| successful blog बनाना है तो यह पॉइंट हमेशा ध्यान में लीजिये|

long tale keyword –

अब अगर पोस्ट का टाइटल सस्ता कम्प्यूटर कैसे खरीदें ऐसा है| तो इसमें कंप्यूटर एक keyword हुआ| उसके बाद सस्ता कप्यूटर भी एक keyword हुआ| तो इन दोनों में सस्ता कम्प्यूटर लॉन्ग टेल keyword हुआ| जिस पर अधिक ट्रैफिक मिलता है| चूँकि लंबे keyword पर कंटेन्ट लिखना आसन काम नहीं होता है|

keyword spam –

अगर successful blog बनाना है तो इस बुरी आदत से दूर रहें| कई लोग SEO rank के चक्कर में कीवर्ड स्टफ करने लगते हैं| यानी की एक ही पेराग्राफ में ज़बरन दो तिन बार केवोर्ड घुसाने लगते हैं| अब ऐसे करने से गूगल आप के ब्लॉग को ही sideline कर देगा| और जब आप को rank नहीं मिलेगा तो ट्रैफ कभी नहीं मिलेगा|

Copy paste –

गूगल करोडो अरबो की कंपनी है| सही गलत पहचानती है| उनके पास आधुनिक equipment और programs की कोई कमी नहीं है| अगर आप original कंटेन्ट नहीं पब्लिश करते हैं| किसी का copyright वाला मटिरियल use करते हैं तो आप का ब्लॉग कभी rank नहीं करेगा|

Sentence –

ब्लॉग successful blog तभी बनेगा जब पोस्ट पर विजिटर समय बीतायेगा| और विजिटर तभी रुकेगा जब उसे पोस्ट समझ आएगा| और पोस्ट तभी समझ आएगा जब उसे छोटे छोटे सेंटेंस और पॉइंट्स में लिखा जायेगा| एक successful blog हमेशा सरल होता है|

UN-Eunice content –

कई ब्लॉगर rank ऊपर लाने के लिए same कंटेन्ट घुमा घुमा कर लिखते है| ऐसा करने से ब्लॉग पोस्ट कुछ दिन के लिए rank कर जाएगी लेकिन, कोई भी पूरा पोस्ट नहीं पढ़ेगा| जिस से बाउंस रेट बढ़ जाएगा| और कुछ ही दिन में ब्लॉग पोस्ट का rank बुरी तरह गिर जाएगा| successful blog बनाना है तो इस तरह की गलती बिलकुल ना करें|

Cheating –

जो बात टाइटल में लिख रहे हैं| या जिस चीज़ को इमेज में आप नें मेंशन किया है| उस से रिलेटेड कंटेन्ट होना बहुत ज़रूरी है| अगर आप अपनी audience को उल्लू बनायेगे तो successful blog सपना बन कर रह जाएगा|

Sharing –

ब्लॉग पोस्ट पर organic ट्रैफिक आपने में देर लग सकती है| तब तक आप शोशल मिडिया पर पोस्ट शेयर कर के traffic हासिल कर सकते हैं| यह तरीका कारगर है|

Smart Sharing –

मार्केट में स्पर्धा बहुत है| आज आप जो कंटेन्ट लिखते हैं| उसे शेयर करने पर अगले घंटे में उसका कॉपी – clone कंटेन्ट किसी और साईट पर पब्लिश हो जाएगा| ऐसे में हो सकता है की उसका कंटेन्ट आप से पहले इंडेक्स हो जाये| और आप का original content गूगल स्पैम समज ले| इस लिए पोस्ट को लिखने के बाद 2 से 3 घंटे बाद ही शेयर करें| ताकि पहले आप को ही SE index मिले|

Failure –

असफलता से बड़ा कोई गुरु नहीं होता है| जब आप fail होते हैं तभी आप को pass होने की सच्ची ख़ुशी मिल सकती है| इस लिए नाकाम होने पर उसी चीज़ पर बार बार प्रयास करें| successful blog का मलिक बनना है तो असफलता से सीखना शुरू कर दो| चूँकि यहाँ पहली बार में किसी को success नहीं मिलती है|

Observation –

आप जिस niche में ब्लॉगिंग कर रहे हैं| उस ब्लॉग में दुसरे successful ब्लॉगर क्या पोस्ट कर रहे हैं| ब्लॉग को कैसे maintain कर रहे हैं| इन सब चीजों पर नज़र रखें| और खुद को दिन पर दिन बेहतर बनायें|

Experiment –

आप के ब्लॉग पर क्या वर्क करेंगा| किस तरह का कंटेन्ट आप के रीडर को पसंद आएगा| यह बात कोई नहीं जानता है| इस पॉइंट पर आप अपने अनुभव से ही काम कर सकते है| इस लिए नयी चीजें try करते रहें| जो चीज़ क्लिक कर जाए| उस Technic से आगे बढ़ें|

Add words –

कई लोग ब्लॉग पोस्ट लिंक कर ऐसे ही अंधाधुंध लिंक शेयर करते रहते हैं| और फरियाद करते हैं की ब्लॉग पर traffic नहीं आता है| जब आप ब्लॉग पोस्ट का लिक शेयर करें तो उसके साथ दो टूक बातें भी लिखें| उदाहरण के तौर पर – मोबाइल से virus दूर करने का आसन तरीका हाज़िर है या फिर बाज़ार में लौंच हुआ यह नया फ़ोन|

Discuss an –

ऐसे ग्रुप्स और फ़ोरम्स पर एक्टिव हो जाएँ जहाँ पर आप के niche से रिलेटेड बाते हो रही हैं| वहां पूछे जाने वाले सवालों के जवाब दीजिये| और जहाँ ज़रूरत लगे वहां अपने ब्लॉग पोस्ट के लिंक भी दीजिये| उदाहरण के तौर पर में blogging forum ज्वाइन कर के अपने इस पोस्ट का लिंक दे सकता हूँ| चूँकि यह पोस्ट beginner bloggers के लिए काफी helpful होगा|

Opinion –

लाइफ में आप जिस किसी भी फील्ड में काम करते हैं| उसमें पहले से ही कई लोग मास्टर मौजूद होते हैं| या फिर ऐसे लोग होते हैं जो success हासिल कर चुके होते हैं| ऐसे लोगों से आप के ब्लॉग के बारे में ओपीनियन लेंगे तो बहुत लाभ होगा| कई बार छोटी छोटी गलतीयां हमारे नज़र में नहीं आती है| लेकिन experienced ब्लॉगर तुरंत पकड़ लेते हैं|

Repair –

जब आप पोस्ट लिखते है| तब थकान होती है| रिसर्च करना| फोर्मेटिंग करना| रिलेटेड इमेज ढूंढना| इन सब process में कई बार हम proof reading करना भूल जाते है| जिस से ब्लॉग में छोटी छोटी मिस्टेक्स रह जाती है| ऐसा हुआ तो ब्लॉग professional नहीं दिखेगा| इस लिए पोस्ट पब्लिश करें उसके पहले उसे एक बार पढ़ लें| और पब्लिश होने के बाद भी कोई error दिखे तो उसे जल्द सुधार लीजिये|

Grammar –

पोस्ट में जब आप कोई चीज़ एक्सप्लेन करते हैं| तब आप की भाषा का सही होना ज़रूरी है| इस filed में हमारे ऊपर कोई बॉस नहीं होता है| इस लिए कंटेन्ट क्वालिटी ख़राब होने पर डांट फटकार का डर नहीं रहता है| ऐसे में वर्क क्वालिटी का स्तर निचे ना चला जाए यह ध्यान रखना ज़रूरी है|

Spam problem –

अगर नया ब्लॉग है तो कोई issue नहीं है| लेकिन successful blog है और उस पर ट्रैफिक अधिक है तो, कई लोग back-link लेने के चक्कर में बार बार आप के आर्टिकल के कमेंट बॉक्स में अपने लिंक छोड़ छोड़ कर स्पैम करते हैं| और ऐसा होने से आप के ब्लॉग की क्वालिटी ख़राब होती है| इस प्रॉब्लम से बचने के लिए एंटी स्पैम प्लगइन का उपयोग करें|

Meetup –

ब्लॉगिंग कोम्युनिटी में ब्लॉग फील्ड में अच्छा काम करने वाले ब्लॉगर को सम्मानित किया जाता है| इस तरह के समारोह में नए ब्लॉगर भी आते हैं| ताकि उन्हें इस क्षेत्र में अच्छा काम करने की प्रेरणा मिले| ऐसे फंक्शन में जाने से आप का ब्लॉग और प्रमोट होता है|

Competition –

कौन से niche पर कितना स्पर्धा है यह जान कर low competition सब्जेक्ट पर काम करना समझदारी है| ऐसा करने से आप का ब्लॉग successful blog जल्द बन सकता है| income स्टार्ट हो सकती है| यह कार्य कम मेहनत में अधिक मुनाफे जैसा है|

Never Give Up –

इस फील्ड में सफलता पाना मुश्किल है| नामुमकिन नहीं है| कई ब्लॉगर आते हैं| जाते हैं| और कई ऐसे भी हैं जो लाखो कमाते हैं| अगर आप ब्लॉगिंग को एज अ करियर चुन रहे हैं तो इस पर कम से कम 1 से 2 साल लगातार काम करें| मेहनत का फल कभी ना कभी किसी रूप में मिलता ही है| और अगर फेल ही हो गए तो फक्र से बोल सकेंगे की दिल लगा कर मेहनत की थी|

Hold Success –

ब्लॉग रेंक होते हैं| फिसल भी जाते हैं| इस लिए लगातार कंटेंट पब्लिश करना ज़रूरी है| एक रूटीन बना लें| हफ्ते में या महीने में इतने इतने आर्टिकल डालने ही है| अच्छे से रिसर्च कर के कंटेन्ट पब्लिश करें| और तगड़ा फेन बेस बनायें|

Final Words on successful blog creation

ब्लॉगिंग विषय पर इन्टरनेट पर ढेर सारे आर्टिकल्स मौजूद है| अगल अलग ब्लॉगर अपनी सूझ बुझ अनुसार काम करता है| यह ज़रूरी नहीं है की, आप किसी ब्लॉगर को फॉलो कर के उस के जैसा ब्लॉग बना कर successful blog बना लेंगे|

successful blog

Success पाने के लिए आप को कुछ अपनी क्रिएटिविटी भी डालनी होगी| जो चीज़ मार्केट में पहले से मौजूद है उसे देखने के लिए कोई आप के नए ब्लॉग को सब्सक्राइब क्यूँ करेगा| या क्यूँ पोस्ट पढने के लिए टाइम waste करेगा| इस लिए अपने विजिटर का ध्यान attract करने के लिए कंटेन्ट पर value ऐड करें|

और कुछ कंटेन्ट में नयापन लायें| ब्लॉगिंग से जुड़ी कोई भी समस्या है तो कमेट बोक्स में अपना प्रशन शेयर करें| पोस्ट अच्छी लगे तो हमारा ब्लॉग सब्सक्राइब ज़रूर करें| धन्यवाद|

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *