How to apply for Mudra yojna business loan in India

Mudra Yojna : हमारे देश में कई लोग ऐसे हैं जिनके पास हुनर तो है लेकिन, उद्योग व्यापार शुरू करने के लिए प्राथमिक कैश रकम नहीं है| इसी समस्या का समाधान लाने के लिए भारत सरकार द्वारा एक कदम उठाया गया है| इंडियन गवर्नमेंट के इस साहस को मुद्रा योजना (mudra scheme) कहा जाता है| इस छोटे से लेख में हम यही जानकारी विस्तार से देने वाले हैं की मुद्रा योजना के तहत आर्थिक कर्ज़ सरकार से प्राप्त करने के लिए आवेदन कैसे करें|

MUDRA YOJNA

मुद्रा योजना क्या है? – what is mudra yojna

इस कल्याणकारी योजना की शुरुआत वर्ष 2015 में भारत सरकार द्वारा की गयी है और इसे संक्षिप्त में PMMY कहा जाता है| आम तौर पर जब एक साधारण एवं मध्यम वर्ग का व्यक्ति खुद का व्यवसाय-व्यापार स्थापित करना चाहता है तब उसे कई सारी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है|

इनकम का प्रमाण, गारंटी, सरकारी बाबूओं की घुस और ना जाने क्या क्या| इन सभी समस्याओं का समाधान करने के लिए ही सरकार नें मुद्रा योजना का गठन किया है जिस से आम आदमी सरलता से ऋण हासिल कर के काम शुरू कर सके|

मुद्रा योजना के लाभ क्या हैं? – what are the benifits of mudra scheme

मुद्रा योजना से loan लेने पर processing fees नहीं ली जायेगी| इस स्कीम की सब से बड़ी बात यह है की इसमें आप को बिना गारंटी के loan दिया जाता है|

mudra yojana loan की अवधि 5 वर्ष तक बढाई जा सकती है| और वोर्किंग केपिटल लोन को मुद्रा कार्ड द्वारा दिया जायेगा| तो दोस्तों अगर आप नया काम शुरू करना चाहते हैं और पैसे की कमी से अटके हैं तो मुद्रा योजना फायदे का सौदा हो सकती है|

मुद्रा योजना लोन हासिल करने के लिए क्या योग्यता होना आवश्यक है? – eligiblity and qualificatication for mudra yojna loan

आवेदक व्यक्ति भारत का नागरिक होना चाहिए|

लोन का आवेदन खेतीबाड़ी के लिए नहीं होना चाहिए|

यह loan छोटे एवं मध्यम ऋण के लिए हैं (न्यूनतम 50 हजार, महत्तम 10 लाख)|

मुद्रा योजना – mudra scheme types

भारत सरकार द्वारा संचालित मुद्रा scheme को मुख्यतः तीन चरण में विभाजित किया गया है| जिसमें सब से पहले शिशु ऋण उसके बाद किशोर ऋण और तीसरा तरुण ऋण विभाजन है| इन तीनों विभाग में कम से अधिक रकम की loan को बांटा गया है| इस योजना में यह निर्णय किया गया है की, कुल रकम में से 60% रकम प्रथम विभाग शिशु ऋण के तहत बांटी जायेगी|

१ Shishu loan / शिशु ऋण की सीमा 50 हज़ार तक है|

२ Kishor loan / किशोर ऋण की सीमा 50 हज़ार से 5 लाख तक है|

३ Tarun loan / तरुण ऋण की सीमा 5 लाख से 10 लाख तक है|

Mudra scheme intrest rate – मुद्रा योजना के तहत ब्याज कितना चुकाना होगा?

मुद्रा योजना के तहत लोन लेने वाले नागरिक को कितना ब्याज देना होगा इस पर सरकार द्वारा कोई भी rule नहीं बनाया गया| किसी भी लोन को पास होने पर लोन देने वाला बैंक इस बात को सुनिश्चित करेंगा की, उस उद्योग में जोखिम कितना है और उसका भविष्य क्या है| इन सभी ज़रूरी पहलूँ ओ को ध्यान में रख कर बैंक intrest rate लगाएगा| अगर आप मुद्रा योजना के अंदाजित ब्याज दर को जानना चाहते हैं तो वह सालाना 11% से 15% तक हो सकता है|

मुद्रा योजना loan धारक को कितनी सब्सिडी मिलती है? subsidy rules in mudra yojana

सरकार द्वारा इस स्कीम के तहत आवेदक को कोई सब्सिडी नहीं मिलती है| लेकिन अगर किसी आवेदक नें किसी दूसरी अन्य capital loan पर सब्सिडी क्लेम नहीं करी है तो ऐसा व्यक्ति अपनी उस सब्सिडी को mudra loan से लिंक कर के उसे हासिल अवश्य कर सकता है|

Process of Mudra Loan – मुद्रा योजना ऋण लेने का प्रोसेस

Step 1 – सब से पहले अपने बिज़नस का प्लान एक प्रोजेक्ट की तरह तैयार कर लीजिये| उसके बाद अपने इलाके में मुद्रा योजना के तहत ऋण देने वाली सभी बैंक में जा कर इस स्कीम पर कितना intrest लगता है यह जानकारी हासिल कर लीजिये|

Step 2 – बैंक सुनिश्चित कर लेने के बाद अब आप को loan लेने से जुड़े दस्तावेज जमा कर लेने हैं| इसमें गभराने की ज़रूरत नहीं है| आप को अपना फोटो वाला गवर्नमेंट approved ID कार्ड, राशन कार्ड, घर का बिजली का बिल, जिस इलाके में रहते हैं वहां का दाखिला, और आप वर्तमान समय में जो काम करते हैं उसका कोई सबुत यानी IT return या पगार पर्ची वगेरा इकठ्ठा कर लेना है|

Step 3 – अब तीसरे चरण में आप के पास बिज़नस का प्रोजेक्ट है, डॉक्यूमेंट तैयार है| अब आप को उन सभी दस्तावेज को अच्छे से सजा कर बैंक मेनेजर को पेश कर देना है|

Step 4 – अब आप के प्रोजेक्ट में नुक्स निकलेंगे और loan चूका पाने की क्षमता पर भी सवाल किये जायेंगे| इस लिए जो प्रोजेक्ट आप ने नक्की करा है उसमें आप को confident दिखना है| और अगर बैंक loan रिजेक्ट करता है तो, ऐसा होने का कारण उनसे जानना है|

Step 5 – दुबारा अपना प्रोजेक्ट रिपैर कर के बैंक के मैनेजर से मुलाकात करनी है| अब की बार भी अगर कोई कमी रह जाती है तो उसे दुरुस्त कर के काम आगे बढ़ाना है|

Note – किसी भी प्रोजेक्ट के लिए ऋण हासिल करने के लिए अगर आप प्रोजेक्ट बना रहे हैं तो एक बार देख लीजिये की उस काम के लिए मुद्रा योजना लोन देती भी है या नहीं| कई बार ऐसा हो सकता है की, अधिक जोखिम वाले काम या कम डिमांड वाले उद्योग के लिए मुद्रा scheme नें उस व्यवसाय व्यापार को loan देने के लिए वर्जित कर दिया हों|

Loan कब फायदे का सौदा है?

बिज़नस करना सब के बस की बात नहीं| खुद का काम शुरू करने के लिए नौकरी करने से 100 गुना पापड़ बेलने पड़ते हैं| और नुक्सान होने का रिस्क 1000 गुना होता है| इस लिए अगर आप बिज़नस खड़ा करने के लिए loan लेने की सोच रहे हैं तो निचे बताये पॉइंट्स ध्यान से समझ लीजिये|

  • उत्पादन करना बच्चों का खेल है लेकिन उत्पाद को बेचना लोहे के चने चबाने जैसा है| अगर आप बेच नहीं सकते तो बनाने का काम हाथ में लेने के लिए लोन मत लीजिये|
  • प्रोजेक्ट में बड़ी रकम बता कर एक्स्ट्रा पैसे हाथ में रखने की गलती ना करें| loan देने वाले बैंक को पता होता है किस साइज़ के प्रोजेक्ट में कितना पैसा ज़रूरी है| उनका रोज़ का ये काम होता है|
  • अगर आप के पास बेक उप प्लान नहीं है तो loan मत लीजिये| आप का बिज़नस फ़ैल हुआ तो आप loan की भरपाई कैसे करेंगे उसका रास्ता आप को पहले ही तैयार रखना पड़ता है|
  • अनजाने पानी और अनजाने बिज़नस के लिए ऋण लेना बेवकूफी है| आप उसी काम के लिए कर्ज़ लीजिये जिस काम को आप अच्छे से कर सकते हैं या कर रहे हैं|
  • एक बार loan कर्ज़ मिल जाने के बाद उसे कमा कर जल्दी से भरने की गलती ना करें| उस पैसे को कहीं सेविंग्स में या दुसरे सुरक्षित काम में लगा कर दुगना मुनाफा कमायें|
  • loan के लिए फॉर्म भरना और आप के डॉक्यूमेंट जोड़ना बड़ी आसन प्रक्रिया है| इस काम के लिए बैंक अधिकारी आप को जैसे जैसे सुचना देते जाएँ वैसे वैसे कागज़ जोड़ते जाएँ| डॉक्यूमेंट प्रोसेस हर बैंक का थोडा थोडा अलग हो सकता है पर बड़ी आसानी से मैनेज किया जा सकता है|
  • किसी बात पर कुछ समझ ना आये तो आप बैंक वालो से या किसी loan एक्सपर्ट से सलाह मशवरा कर सकते हैं| और अगर कही से रास्ता ना निकले तो आप सरकारी सुचना एवं जानकारी विभाग से संपर्क कर के इन्फोमेशन हासिल कर सकते हैं|

Finally – दोस्तों मुद्रा योजना हमारे लिए है| अगर आप बैंक के काम काज में प्रवीण नहीं हैं तो आप किसी एजंट को डॉक्यूमेंट तैयार करने और दिशा निर्देश देने के लिए काम पर लगा सकते हैं|

ताकि अगर आप कहीं अटक जाएँ तो वह आप की मुश्किल आसन कर सके| वैसे बैंक तो सीधे आप से ही बात करेगा लेकिन फिर भी आप loan अप्रूवल करा देने वाले किसी एक्सपर्ट की सलाह ज़रूर ले सकते हैं|

Mudra scheme से जुड़े और कोई प्रश्न हैं तो आप हमें कमेंट एरिया में बता सकते हैं| पोस्ट अच्छी लगे तो हमारा वेबसाइट सब्सक्राइब अवश्य करें|

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *