यह दुख भरी कहानी गब्बर सिंह Gabbar नाम के एक मासूम डाकू की है। रामगढ़ विस्तार में चोरी डकैती कर के अपना पेट पाल रहे गब्बर सिंह के पीछे सरकारी पगार खाने वाला ठाकुर बलदेव सिंह पड़ जाता है और उसका धंधा चौपट कर के उसकी वाट लगा देता है। गब्बर उसे बार बार बोलता है की भाई,,, मेरे पास