Goat Facts In Hindi | बकरी से जुड़े अद्भुत तथ्य

यह जीव एक पालतू जानवर है। मानव जाती पूर्व काल से Goat (बकरी) पालन करता आया है। पूरे विश्व में बकरियों की कुल मिला कर 300 से भी अधिक प्रजाति मौजूद है। स्वभाव से डरपोक और शांत जीव बकरी को मांस और दूध के लिए पाला जाता है। एक बकरी का आयुष्य औसतन 15 से 20 वर्ष तक हो सकता है। एक बकरी बिना हिले अपनी चहु और 320 से 340 डिग्री तक देख लेती है। बकरी की दोनों आँख की पुतली आयताआकार होने के कारण यह संभव होता है। और अगर बकरी की तुलना इन्सान से करें तो, हम हिले बिना केवल 160 से 210 डिग्री तक देख पाते हैं।

एक बकरी का गर्भ समय 5 माह का होता है। वर्ष 2010 के बाद बकरी की संख्या 90 करोड़ के ऊपर जा चुकी थी। बकरी का अन्य नाम “बुज” होता है। इस शब्द का अर्थ डरपोक होता है। इसी कारण जब किसी व्यक्ति को कायरता का व्यंग कसना होता है तो उसे बुज़दिल बोल कर पुकारा जाता है। यह जीव आम तौर पर समूह में जीवन व्यथित करता है। बकरी जब अकेली रहती है तो वह मानसिक तौर पर विचलित होने लगती है और असहज / असुरक्षित महसूस करती है।

आयुर्वेद शास्त्र में और पौराणिक पुस्तकों में बकरी के दूध का महत्व बताया गया है। यह पचने में अत्यंत हल्का और गुणकारी होता है। बकरी का दूध खास कर बच्चों के लिए बहुत ही लाभदायी होता है। तामसी वृति के लोग इस मासूम जीव को मार कर उसका मांस भी खाते हैं। बकरी पूरे विश्व में लगभग हर जगह पाया जाने वाला पालतू जानवर है। बकरी के बच्चे बहुत ही प्यारे होते हैं और वह जन्म के कुछ ही समय बाद बोलने और चलने लगते हैं।

Tags:

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *