ज़िंदगी में जीतने वाले Winners और हारने वाले लोगों को अलग करते गुण

इन्सान महेनत करने पर जो चाहे वह पा सकता है। ज़िंदगी में मुफ्त में कुछ भी नहीं मिलता है। कुछ प्राप्त करना है तो परिश्रम बहुत आवश्यक है। एक इन्सान अपनी परवरिश और आंतरिक गुणों के मुताबिक आचरण करता है। कुछ लोग स्वभाव से अत्यंत साहसी होते हैं तो कुछ लोग निराशावादी होते हैं। कुछ महेनती होते हैं तो कुछ आलसी होते हैं। किसी व्यक्ति को अपने बाहुबल पर भरोसा होता है तो कुछ लोग अपनी बुद्धिमता के बल पर आगे बढ़ते हैं। आइये जानते हैं की लाइफ में वीनर Winners और लुज़र की पहेचान क्या होती है।

  1. जीतने वाले लोगों (Winners) के पास सपने होते हैं। हारने वाले लोगों के पास उल्लू बनाने के ठग पैतरे होते हैं।
  2. जीतने वाले लोगों (Winners) को की दृष्टि हमेशा मिलने वाले लाभ पर होती है। यह लोग सकारात्मक होते हैं। हारने वाले लोगों को सिर्फ कठिनाईयां और मुसीबतें दिखती हैं।
  3. जीतने वाले (Winners) समूह का सक्रिय हिस्सा होते हैं। हारने वाले दल से अलग थलग होते हैं।winners
  4. जीतने वाले लोग (Winners) एक सटीक योजना के सहारे लक्ष्य की और आगे बढ़ते हैं। हारने वाले हर वक्त बहाने बनाते हैं।
  5. जीतने वाले आगे आते हैं ज़िम्मेदारी उठाते हैं। और कहेते हैं की लाओ में कर देता हूँ। हारने वाले आलसी और हिसाबी होते हैं। वह हमेशा कहते हैं की, यह मेरा काम नहीं वह मेरा काम नहीं।
  6. जीतने वाले (Winners) हमेशा कहते हैं की, मुझे कुछ करना चाहिए। हारने वाले हर वक्त कहते हैं की, कुछ होना चाहिए।
  7. जीतने वाले अधिक्तर उपलब्धि का हिस्सा होते हैं। हारने वाले सिर्फ समस्या का हिस्सा होते हैं।Winners
  8. जीतने वाले (Winners) लोग हर समस्या का समाधान ढूंढ लेते हैं। हारने वाले लोग हर चीज़ में समस्या खोज लेते हैं।
  9. जितनी वाले (Winners) हमेशा कहेते हैं की यह कठिन है पर असंभव नहीं है। हारने वाले कहते हैं की, यह संभव तो है पर बहुत मुश्किल है।
  10. एक विजेता जब गलती करता है तो वह उसका स्वीकार करता है। और कहता है की हाँ मेरी भूल थी। हारने वाला जब भी गलती करता है तो वह हर वक्त अपनी भूल छुपाने का प्रयत्न करता रहता है। और कहता है की यह मेरी गलती है ही नहीं।

पोस्ट अच्छी लगे तो like और share ज़रूर करें। और हमें follow करना भूलें नहीं। धन्यवाद।

2 Comments

  1. LRSN September 1, 2017
    • Paresh Barai September 2, 2017

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *