Backlink क्या है और यह Webslte SEO के लिए क्यूँ ज़रूरी है

Backlink ब्लॉगिंग की दुनियाँ का बहुत महत्वपूर्ण शब्द है। किसी भी ब्लॉग के सफल होने के पीछे High Quality backlink network का बहुत बड़ा हाथ होता है। नए blogger शायद इस शब्द की Importance नहीं जानते होंगे। लेकिन जैसे जैसे Blogging field में अनुभव बढ़ेगा जानकारी हासिल होती जाएगी। हम आप को बता दें की, website पर traffic लाने के लिए और SEO (search Engine Optimization) के लिए Backlink बहुत ही महत्वपूर्ण है। इस छोटे से article में Backlink का अर्थ, प्रकार, गुणवत्ता और Backlink setup करने का तरीका बताया गया है। तो आइये ब्लॉगिंग की इस महत्वपूर्ण चीज़ के बारे में जानकारी हासिल करते हैं।

पूरे article के मुद्दे – Table of Content for Backlink

  1. Backlink क्या है?
  2. बैकलिंक के लाभ क्या हैं?
  3. Link Juice क्या है?
  4. Internal Linking क्या है?
  5. Backlink के प्रकार
  6. Do follow बैक लिंक और No follow बैकलिंक क्या है?
  7. High Quality बैकलिंक और Low Quality बैकलिंक का अंतर क्या है।
  8. अच्छी quality के Backlinks कैसे सेट करें।
  9. बैकलिंक SEO Benefits क्या है?

Backlink

(1) Backlink क्या है? – What Is backLink

इंटरनेट पर ढेर सारे वैबसाइट होते हैं। इनमें से जब कोई वैबसाइट किसी दूसरे website के साथ Link होता है तब यह कहा जात है की, उस वैबसाइट का Backlink दूसरे वैबसाइट पर दिया गया है। comment title, post text ink या पोस्ट photo के ज़रिये बैकलिंक दिया जाता है।

(2) Backlink के लाभ क्या हैं? – Benefits of creating a backlink

बढ़िया क्वालिटी के बैकलिंक सेट कर के ब्लॉग पर अच्छा खासा traffic लाया जा सकता है। और ज़्यादा traffic यानी ज़्यादा क्लिक और ज़्यादा क्लिक मतलब ज़्यादा Earning, अच्छे ब्लॉग पर backlink सेट करने पर ब्लॉग का alexa rank भी बढ़ता है। और search engine में Post बड़ी आसानी से index होनें लगते हैं। साथ में page rank भी बढ़ता है।

(3) Link Juice क्या है? – What is Link Juice

इंटरनेट पर जब किसी एक webpage का link आप के वैबसाइट के किसी article post के या homepage से जुड़ा हुआ होता है, तब उस page पर लिंक क्लिक होने से, link flow हो कर आप के Blog (website) तक पहुंचता है। येही चीज़ Link juice कही जाती है। इस प्रकार के link juice से domain authority बढ़ती है। और ब्लॉग पोस्ट का page rank भी बढ़ता है।

(4) Internal linking क्या है? – What is Internal linking

अगर किसी ब्लॉग पर कोई एक पोस्ट अच्छे Rank पर है। उस post पर visitor की तादाद बहुत अधिक आ रही है। तो आप उस ब्लॉग पोस्ट में अपने अन्य नए या पुराने article post के link डाल कर, उस Post की popularity का लाभ ले सकते हैं। short में कहा जाये तो एक ही website blog में एक article post का link किसी दूसरे अन्य article post में डाला जाये उसी को Internal Linking कहा जाता है। Blog page views बढ़ाने का यह उत्तम तरीका है।

(5) Backlink के प्रकार कितने हैं – Types of Backlink

Backlink के दो प्रकार होते हैं प्रथम Do Follow Backlink द्वितीय No Follow Backlink अब इन दोनों के बारे में थोड़ा विस्तार से जानकारी लेते हैं।

Backlink SEO

(6) Do Follow Backlink और No Follow Backlink की जानकारी

· Do Follow Backlink

इस प्रकार का बैकलिंक हमेशा Link Juice पास करने में मददगार होता है। बड़े बड़े   वैबसाइट पर प्रति दिन ज़्यादा traffic आता है। ऐसे famous website इस प्रकार के  link बहुत कम allow करते हैं। चूँकि इस से बैकलिंक सेट करने वाले वैबसाइट को     बहुत लाभ मिलता है।

कुछ वैबसाइट कमेंट लिखने के कुछ दिन तक do follow Backlink रहने देते हैं उसके बाद उसे No follow Backlink में तब्दील कर देते हैं। ऐसा करने से Google Serach में Visitor engagement का लाभ भी मिल जाता है और कुछ समय बाद No Follow link में तब्दील करने से, traffic भी जाना रुक जाता है।

Example – यह एक सामान्य डू फॉलो लिंक का नमूना है। याद रखें की, सभी लिंक by default Do Follow Link ही होती हैं।

<a href=”abc.com”>Link Text</a>

· No Follow Backlink

इस प्रकार का Backlink एक साइट से दूसरे साइट तक link juise पास नहीं करता है। अगर सर्च एंजिन की बात करें तो, वह भी इस प्रकार के बैकलिंक को कोई लाभ प्रदान   नहीं करता है। जिस कारण वैबसाइट के rank को आगे बढ्ने में भी लाभ नहीं मिलता है। इस की positive साइड देखें तो No Follow Backlink का यह लाभ होता है की, आप किसी भी लिंक को disable कर सकते हैं।

मान लिंजिए की, किसी ऐसी website का comment आया है जिसे आप पसंद ना करते हों तो आप उस बैकलिंक के लिए नो फॉलो एट्रिब्यूट अप्लाई कर सकते हैं। अब इस पॉइंट को एक Example से समझते हैं।

Example – में नहीं चाहता की मेरे ब्लॉग पर आने वाले visitor abc॰com वैबसाइट पर जाएँ। तो मै इस लिंक को No Follow Backlink attribute कुछ इस तरह दूंगा।

<a href=”abc.com” rel=”nofollow”>Link Text</a>

(7) High Quality और Low Quality baklink का अंतर क्या है।

1. High Quality backlink

अगर कोई लिंक अच्छी quality वाली प्रसिद्ध वैबसाइट से आता है तो वह हाइ क्वालिटी  बैकलिंक कहा जाता है। जिस वैबसाइट पर अधिक visitor आते हों। और जिस वैबसाइट का alexa rank बढ़िया हों, ऐसे वैबसाइट पर बैकलिंक बनाने से आप के ब्लॉग की  वैल्यू बढ़ती है और Search Engine आप के ब्लॉग वैबसाइट को भी Rank में आगे    प्रमोट करता है।

2. Low Quality baklink

इंटरनेट पर कई ऐसे वैबसाइट है जो अनैतिक traffic बढ़ाने का service देते हैं। इन के अलावा gambling, porn, और foals viral info वाले spammer वैबसाइट से आने वाली links घटिया Backlink होती हैं। इन वैबसाइट पर traffic बहुत ज़्यादा होता है। और वहाँ से आप के ब्लॉग पर शायद कुछ दिन traffic भी आ जाए। लेकिन गूगल बोट्स जल्द ही इस प्रकार के Low quality बैकलिंक gage कर लेगा और आप के ब्लॉग को rank में पीछे धकेल देगा। इस type के बैकलिंक सिर्फ नुकसानकारक होते हैं।

# Top 25 Popular ब्लॉगिंग topics का list

# CTR क्या होता है। इसे कैसे Improve किया जाता है!

# Bounce Rate क्या होता है। इसे कैसे कम किया जाता है!

(8) Website Blog के लिए बड़िया Quality के Backlink कैसे बनाएँ

अगर कोई नया ब्लॉगर एक साथ ढेर सारी बैकलिंक बना कर जल्द traffic पाने का सपना देख रहा है तो वह गलती कर रहा है। एक साथ कई सारी Backlink डालने पर गूगल आप के ब्लॉग को spammer समझ कर ignore कर सकता है। या panelizes भी कर सकता है।

याद रखें की Organic traffic बढ़िया quality का कंटैंट लिखने से ही मिलता है। Content अच्छा नहीं हुआ और आप SEO के पीछे भागते रहेंगे तो उसका कोई लाभ नहीं होगा। Natural backlink built-up करने के कुछ आसान तरीके हैं। जो एक ब्लॉगर के लिए काफी उपयोगी हो सकते हैं। आइये इस के बारे में बात करें।

  • Quality कंटैंट ही पब्लिश करें।
  • दूसरे blogs पर Comment करें
  • Guest Post करते रहें।

->Quality कंटैंट ही पब्लिश करें।

थैली में जिस तरह ठूस ठूस कर सब्ज़ी तरकारी भरते हैं वैसे एक ब्लॉग पर पोस्ट की तादाद नहीं बढ़ानी चाहिए। अगर किसी विषय पर अच्छा Knowledge नहीं है और आधी अधूरी जानकारी के साथ लेख लिख कर पब्लिश किया। तो उस article का कोई लाभ नहीं होगा।

कंटैंट उपयोगी होगा तो अन्य blogger उसका लिंक अपने ब्लॉग में डालेंगे। या किसी ब्लॉग के comment section में share करेंगे। इस तरह से natural link building होगा। चमकता हीरा कोयले की खान में दूर से दिख जाता है। ठीक वैसे ही एक अच्छा लेख internet की खान में जल्द पहचान लिया जाता है। और viral भी बड़ी जल्दी हो जाता है।

->दूसरे blogs पर Comment करें

आप जिस subject पर blogging कर रहे हैं। उसी same niche के ब्लॉग पर जा कर commenting area में valuable comments करें। अब उपयोगी comment क्या होते हैं। यह एक बड़ा सवाल है। चूँकि normal comment बड़े blogs पर ज्यादा approve नहीं होते हैं।

मान लीजिये आप नें लिख दिया की, nice blog, good work या और कुछ सीधा साधा word, तो 10 में से 7 famous blogs आप का वह backlink approve ही नहीं करेंगे। चूँकि ऐसी तारीफ़ उनके post को ज़्यादा वैल्यू नहीं देती है। अगर आप बैकलिंक सेट कर रहे हैं तो, comment ऐसा करें की दूसरे लोगों को आप का link खोल कर आप के website पर आने का मन करे। उन्हे जिज्ञासा हों की यह blogger कौन है और यह क्या पोस्ट कर रहा है।

“ऐसा करने के लिए आप ब्लॉगिंग से जुड़े कुछ सवाल पूछ सकते हैं। किसी अन्य कमेंट का replay कर सकते हैं। या किसी नए topic पर अपनी जानकारी share कर सकते हैं।“

->हमेशा Guest Post करते रहें।

अपने ब्लॉग पर regular ट्राफिक पाने का यह एक बढ़िया तरीका है। अगर आप खुद के article पोस्ट करने के साथ, दूसरे अन्य blog के लिए guest post लिखते हैं तो, वहाँ से आप को quality backlink आती है। और आप के ब्लॉग का प्रचार होता है।

किसी भी blogger को guest post भेजने से पूर्व यह देख लें की उस ब्लॉग पर guest post policy क्या है। और किस प्रकार के लेख उनके द्वारा स्वीकार्य होते हैं। कई ब्लॉगर paid guest post भी खरीदते हैं। इस तरह से backlink के साथ साथ earning भी की जा सकती है।

(9) Conclusion – Backlink के SEO Benefits क्या है

इस कार्य से एक तो website पर ढेर सारा visitor traffic आता है। जिस से ad click और content sharing बढ़ता है। और search engine में page rank भी बढ़ता है। high quality bakclink लाभदायी है। low quality बैकलिंक नुकसानकारक है।

do follow backlink traffic लाते हैं। no follow backlink अपने ब्लॉग पर सेट करने से traffc जाने से रोका जा सकता है। गेस्ट पोस्ट और कमेंट राइटिंग से बैकलिंक कमाए जा सकते हैं। उत्तम quality का कंटैंट लिखने पर natural backlink बढ़ते हैं।

किसी भी ब्लॉग वैबसाइट के sucssful होने के लिए Backlink और internal linking दोनों की ज़रूरत होती है। इस विषय पर अगर आप के पास अधिक जानकारी हों तो हमारे साथ साझा करें। – धन्यवाद

4 Comments

  1. jaswant June 28, 2017
    • Paresh Barai June 28, 2017
  2. Rohan June 30, 2017
    • Paresh Barai June 30, 2017

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *