ABS क्या होता है? और यह तकनीक जीवन रक्षक क्यूँ बतायी जाती है?

दोस्तों ABS का पूरा नाम एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम होता है। यह प्रणाली किसी भी चोपहिया वाहन को अकस्मात से सुरक्षित रखने में बेहद कारगर होती है। रफ्तार के शौकीन लोग अपने वेहिकल को तेज़ चलाना पसंद करते हैं। कई बार अन्य वाहनों की गलती के कारण या खुद की भूल के कारण अकस्मात हो सकता है। ABS प्रणाली ड्राइविंग के दौरान होने वाली ब्रेकिंग गतिविधि को मॉनिटर कर के उसके अनुसार सुरक्षा पेटर्न पर चलती है। और जब वेहिकल सामान्य से विपरीत हरकत करता है तब यह प्रणाली एक्टिव हो जाती है। और आप के वेहिकल को अन्य वेहिकल से टकराने से पहले ही रोक लेती है।आइये इस अद्भुत प्रणाली के बारे में थोड़ा विस्तार से समझें।

इस तकनीक के मुख्य चार विभाग होते हैं?

  • स्पीड सेंसर
  • वैल्यू
  • इलेक्ट्रोनिक कंट्रोल यूनिट
  • हायड्रोलिक कंट्रोल यूनिट।

ABS

ABS के प्रकार कितने होते हैं?

  • फॉर चेनल फॉर सेंसर ABS – मेक्स ब्रेक फोर्स का अंदाज़ लगाने के लिए कंट्रोलर सभी सेंसर्स को मॉनिटर करता है। इस प्रणाली को उत्तम ABS प्रणाली माना जाता है। इसमें हर एक पहिये में एक सेंसर और एक वाल्व लगाया जाता है। यह प्रणाली अधिकतर कार में उपयोग होती है।
  • थ्री चेनल थ्री सेंसर ABS – यह प्रणाली पिकअप ट्रक में लगाई जाती है। किसी भी पिकअप ट्रक में दो सेंसर्स और दो वाल्व आगे के पहिये में लगा होता है। तथा एक सेंसर्स और एक वाल्व पीछे के पहिये में लगा होता है। इसी कारण इसका नाम थ्री चेनल थ्री सेंसर्स ABS है। पिछले व्हील वाले सेंसर्स को एक्सेल में लगा दिया जाता है।

ABS

ABS प्रणाली वाली कार लेने के फायदे

  • ब्रेक आप के सय्यम में रहेंगे।
  • यह तकनीक ज़्यादा महेंगी नहीं है।
  • एबीएस तकनीक वाली गाड़ी अकस्मात से पहले ही रुक जाती है।
  • अकस्मात समय पर ब्रेक लगाने से पहिये लॉक नहीं होंगे।
  • कार दुर्घटना के समय स्टियरिंग आसानी से काबू किया जा सकता है।
  • एबीस प्रणाली वाली कर फिसलने की संभावना बहुत कम होगी।
  • भयानक दुर्घटना के वक्त यह प्रणाली जीवनरक्षक बन सकती है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *