IFSC Code क्या होता है और इसे कैसे पता करें

IFSC Code का नाम कई लोगों नें सुन रखा होगा। पर इसका उपयोग क्या होता है और इसका पूरा नाम क्या है यह बात बहुत कम लोग जानते होंगे। यह Code बैंक प्रणाली से जुड़ा हुआ होता है। IFSC का पूरा नाम Indian Financial System Code होता है। यह Code 11 अंकों का होता है। याद रखिये की हर बैंक का IFSC Code अलग अलग होता है। NEFT Transaction System सुविधा प्रदान करने वाली हर बैंक के पास यह आई॰ एफ॰ एस॰ सी॰ कोड होता है। RBI (रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया) हमारे देश के सभी आधिकारिक बैंक का नियमन करती है। जब भी देश के किसी बैंक ब्रांच से कोई व्यवहार करना हों या उसकी जानकारी हासिल करनी हों तब RBI उस बैंक के IFCI कोड के माध्यम से ही उस बैंक की details प्राप्त कर सकती है। देश की आम जनता IFCI Code का ईस्त्माल अपने online बैंक payment तथा cash ट्रान्सफर के लिए कर सकती है। हमारे देश मेन Electronic payment प्रणाली के कई प्रकार उपस्थित हैं। उदाहरण के तौर पर CFMS, RGTS और NIFT ट्रांसफर।

IFCI Code कैसा होता है उसमें क्या होता है।

जैसे की हमनें पहले बात की, यह कोड हमेशा 11 अंकों का होता है। कुल 11 अंक में से पहले 4 अंक उस बैक के सूचक होते हैं जिसका वह IFSC Code होता है। उसके बाद 5 वा अंक नए खुलने वाले बैंक ब्रांच के लिए अबाधित रखा जाता है। यह 0 होता है। बाकी के अंतिम 6 अंक उस Bank का Branch Code दर्शाते हैं। वर्तमान समय में बैंक के द्वारा जारी की गयी चैक बूक और पास बूक में IFSC Code लिखा होता है। इसी Code की पहचान कर के अलग अलग बैंक वाले यह मालूमात करते हैं की जारी किया गया चैक किस बैंक के किस ब्रांच का है।

IFSC Code

IFSC code की महत्ता क्यूँ है।

किसी भी बैंक खाता धारक को इस प्रणाली के बारे में जानकारी होना चाहिए। किसी बड़े बैंक व्यवहार के लिए हमेशा IFSC Code प्रदान करने की ज़रूरत पड़ेगी। पैसे मांगने हों या भेजने हों। बैंक अकाउंट नंबर, आई एफ एस सी कोड़ की जानकारी होने के बाद ही ऑनलाइन जा कर beneficiary add कर सकते हैं।

Bank Account Beneficiary क्या होता है।

अगर आप के बैंक खाते में online पैसे भेजने और लाने की सुविधा है तो आप NEFT और  RGTS ट्रांसफर प्रणाली के माध्यम से पैसे भेज सकते हैं। इस process को करने के लिए आप को पैसे हासिल करने वाले व्यक्ति (Beneficiary) की जानकारी डालनी होगी। इस जानकारी में उस व्यक्ति का पूरा नाम, बैंक खाता नंबर और उसके खाते का आई॰ एफ॰ एस॰ सी॰ कोड लिख कर save करना होता है। और फिर जब भी आप पैसे भेजना चाहें तब Beneficiary चुन कर उसे पैसे भेज सकते हैं।

IFSC Code की जानकारी कैसे हासिल की जाती है।

इस कोड को हम बैंक खाते के पासबूक के पहले पन्ने पर अंदर की ओर लिखा पा सकते हैं। आज कल IFSC Code और बैंक खाता धारक का नाम चैक बूक (चैक) में भी लिखा होता है। तीसरा तरीका बड़ा आसान है। online जा कर Google पर बैंक के नाम, ब्रांच और शहर की जानकारी search box में डालें और आई एफ़ एस सी कोड पता करें।

IFSC Code से जुड़ी अतिरिक्त जानकारी

  • IFSC Code किसी बैंक की पहचान होता है।
  • IFSC Code RBI (रिज़र्व बैंक कोफ इंडिया) संस्था द्वारा सभी बेंक को दिया जाता है।
  • NEFT का पूरा नाम National Electronic Fund Transfer होता है।
  • RGTS पैसे transfer करने का सब से तेज़ तरीका बताया जाता है।
  • Stock Market में Demate खाता खुलवाने के किए चैक बूक और IFSC कोड आवश्यक होता है।

विशेष – बैंक खाता अवश्य खोलना चाहिये और पढे लिखे व्यक्ति को Online Net banking सुविधा का लाभ लेना चाहिये। Traditional banking कार्य करने के लिए हमें आने जाने का खर्च करना पड़ता है। बैंक में भीड़ होने पर घंटों तक लाइन में खड़ा रहना पड़ता है। बैंक में internet की कनेक्टिविटी ना होने पर बार बार धक्के खाने पड़ते हैं।

IFSC Code की तरह बैंकिंग की अलग अलग system को समझ कर उसका उपयोग सीखना हमेशा लाभ दायी होता हैBanking हमारी Life का अभिन्न अंग है। बैंक हमें कई तरह की सुविधा प्रदान करता है। जैसे की व्यापार के लिए और बचत के लिए खाता, पैसों का व्यवहार करने के लिए NTFS और RGTS भुगतान सुविधा, ATM कार्ड, कर्ज़ के लिए लोन सुविधा वगेरा॥ किसी भी पाठक के पास IFSC Code से जुड़ी कोई जानकारी हों तो Comment Box में लिखें। – धन्यवाद

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *