Vitamin B12 क्या है? उसकी कमी दूर करने के उपचार क्या है

हमारा शरीर के अद्भुत रचना है। एक मानव शरीर को सुचारु रूप से संचालित होते रहने के लिए कई सारे महत्वपूर्ण तत्वों की आवश्यकता होती है। जैसे की, विटामिन्स, मिनरल्स, कार्बोदित पदार्थ, प्रोटीन तथा फाइबर। यह सारे ज़रूरी तत्व इन्सान को भोजन और वातावरण से प्राप्त हो सकते हैं। हमारे देश में आज के समय में एक अत्यंत आवश्यक विटामिन जिसका नाम vitamin B12 है उसकी कमी कई लोगों के शरीर में पायी जा रही है।

Vitamin B12 क्या है।

हम आप को बता दें की, विटामिन बी12 में Cobalt धातु पाया जाता है। सभी विटामिन में यह एक ऐसा लौता विटामिन है जिसमें यह धातु होता है। हमारे शरीर को स्वस्थ रहने के लिए इस विटामिन का सही मात्रा में शरीर में होना अत्यंत आवश्यक है।

Vitamin B12 की कमी के लक्षण

आलस, कमज़ोरी, अपाचन, सिर दर्द, कान में घंटी बझना, त्वचा में पीलापन, मुह में छाले, चिड़चिड़ा पन, धड़कनें बढ़ जाना, रक्त की कमी, भूक कम लगना, कमज़ोर याददाश्त etc।   

Vitamin B12

Vitamin B12 क्यूँ ज़रूरी है?

इस विटामिन की सही मात्रा शरीर में होने पर ह्रदय रोग का खतरा कम रहता है। यह विटामिन हमारे शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इस विटामिन की सही मात्रा से हमारा शरीर तनाव से मुक्त रहता है। विटामिन ब 12 व्यक्ति को जवान और ऊर्जावान रखता है। शरीर के नर्वस सिस्टम को सही बनाए रखने के लिए यह विटामिन बहुत ज़रूरी है। अगर शरीर में विटामिन बी 12 घट जाता है, तो फोलिक एसिड का अवशेषण नहीं ही पाएगा। इस विटामिन की कमी से जूझ रहे वक्ती के साथ मस्तिष्क घात होने की भी संभावना रहती है।

Vitamin B12 की कमी होने के मुख्य कारण क्या है?

  • पेट में अल्सर हुआ तो विटामिन ब 12 की समस्या हो सकती है।
  • केवल शाकाहार भोजन करने वाले और दूध कम पीने वाले व्यक्ति को यह समस्या हो सकती है।
  • पेट के रोगों से जूझ रहे व्यक्ति को विटामिन B12 की कमी महेसूस हो सकती है।
  • अगर किसी व्यक्ति को शस्त्रक्रिया कराने पर छोटी आंत का कुछ हिस्सा निकाल कर अलग कर दिया जाता है। तो कई बार विटामिन B12 की कमी महेसूस हो सकती है।

vitamin B12

Vitamin B12 की कमी दूर करने के उपाय क्या हैं?

सब से पहले तो विटामिन B12 की कमी की जांच करानी चाहिए। ताकि शरीर में लाल रक्त कण और विटामिन बी 12 की मात्रा का पता चल सके। उसके बाद बोन मेरो ओटोप्सी करानी चाइए। यह हड्डियों का एक परीक्षण होता है। उसके बाद एंटी बॉडी टेस्ट और सीलिंग टेस्ट करना चाहिए।

उपचारअगर शरीर में इस विटामिन की कमी हद से ज़्यादा बढ़ जाती है तो, चिकित्सक से विटामिन B12 की गोलियां ली जा सकती हैं। इस कमी को दूर करने के लिए विटामिन B12 के injection भी लिए जा सकते हैं।

आहार – इस विटामिन की कमी से जूझ रहे व्यक्ति को अपने आहार में दूध, अंडा, लैम्ब, दरियाई भोजन, और चिकन ले सकते हैं।

पोस्ट अच्छी लगे तो लाइक और subscribe ज़रूर करें। – धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *